DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खाप पंचायतों का तालिबानी फरमान ऑनर किलिंग मामले के दोषी लोगों का मुकदमा लड़ेंगी खाप पंचायतें

समान गोत्र में विवाह के खिलाफ अपने फैसलों के चलते आलोचना के घेरे में आईं खाप पंचायतों ने अपनी एक खाप महापंचायत बुलाकर मंगलवार को नाफरमानी वाला रूख अख्तियार करते हुए ऐलान किया कि वह सम्मान की खातिर हुई एक दंपति की हत्या के मामले में एक पखवाड़े पूर्व दोषी करार दिए गए सात लोगों के पक्ष में कानूनी लड़ाई लड़ेंगी।

हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली के कुछ क्षेत्रों की कुल 36 खाप पंचायतों के प्रतिनिधियों की बैठक सर्वजाति खाप महापंचायत में हिंदू विवाह अधिनियम में संशोधन की मांग उठी ताकि समान गोत्र में विवाह करने पर पाबंदी लगायी जा सके। पिछले 30 मार्च को करनाल की एक अदालत के उस ऐतिहासिक फैसले के बाद यह महापंचायत बुलायी गई जिसमें 23 वर्षीय मनोज और 19 वर्षीय बबली की 2007 में हुई हत्या के मामले में पांच लोगों को मौत की सजा सुनाई गई थी।

मनोज और बबली के समान गोत्र में विवाह करने के बाद उनकी हत्या कर दी गई थी। हत्या का आदेश देने वाली खाप पंचायत के प्रमुख को उम्र कैद जबकि दंपति का अपहरण करने वाले वाहन चालक को सात वर्ष कैद की सजा सुनाई गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खाप पंचायतों का तालिबानी फरमान