DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन से प्रक्षेपण, उलटी गिनती शुरू

स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन से प्रक्षेपण, उलटी गिनती शुरू

भारत के महत्वाकांक्षी रॉकेट मिशन के लिए उलटी गिनती शुरू हो चुकी है। आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केन्द्र में स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन और देश में ही विकसित रॉकेट जीएसएलवी- डी3 उड़ान परीक्षण के लिए पूरी तरह तैयार है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के प्रवक्ता एस सतीश ने पीटीआई को बताया कि गुरूवार को शाम चार बजकर 27 मिनट पर प्रक्षेपण के लिए सोमवार सुबह 11 बजकर 27 मिनट पर 29 घंटे का काउंटडाउन शुरू होने की उम्मीद है।

देश के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए जटिल क्रायोजेनिक प्रौद्योगिकी एक मील का पत्थर साबित होने जा रहा है। इस मिशन के कामयाब होने से भारत, अमेरिका, रूस, फ्रांस, जापान और चीन के साथ ऐसे देशों की कतार में खड़ा हो जाएगा, जिन्हें प्रणोदक प्रौद्योगिकी के इस उच्चतम स्तर पर महारत हासिल है। सतीश ने कहा कि अंतरिक्ष परिवहन के क्षेत्र में यह भारत को पूरी तरह आत्मनिर्भर बना देगा।

इसरो अध्यक्ष के राधाकष्णन के लिए इस हफ्ते का जीएसएलवी मिशन क्रायोजेनिक प्रौद्योगिकी में पिछले 18 सालों में भारतीय वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की ओर से किए गए अनुसंधान और विकास के नतीजे सरीखा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन से प्रक्षेपण, उलटी गिनती शुरू