DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

12 साल की उम्र में झटक लिए देश के नामी मेडल

कहते हैं कि हुनर को उम्र की दरकार नहीं होती। इस कहावत को नोएडा की 12 वर्षीय एक बच्चाी ने चरितार्थ कर दिखाया है। दिल्ली पब्लिक स्कूल की कक्षा सात की इस छात्र ने तैराकी व घुड़सवारी में न केवल प्रदेश स्तर बल्कि देश में भी अपने हुनर के झंडे गाड़े हैं। काम की तरह ही बच्ची का नाम भी हुनर ही है।


हुनर देशवाल ने तीन वर्ष की उम्र में पानी में तैरना सीख लिया था और अब तैराकी की प्रतियोगिताओं में अपना व नोएडा का नाम रोशन कर रही है। हुनर ने वर्ष 2001 में नोएडा में आयोजित हुई तैराकी की प्रतियोगिता में कांस्य पदक हासिल किया था। इसके बाद जीत का सिलसिला जो शुरू हुआ वह लगातार जारी है। प्रदेश स्तर की तैराकी की प्रतियोगिता में हुनर ने सात गोल्ड मेडल जीते और गोवा में 2009 में हुई देश स्तर की तैराकी की प्रतियोगिता में फाइनल में स्थान बनाया। हुनर न केवल तैराकी के गुर की धनी हैं बल्कि घुड़सवारी में भी परचम लहरा रही है। हुनर ने इसी वर्ष अप्रैल माह में दिल्ली में आयोजित हुए हार्स शो में कांस्य व गोल्ड मेडल प्राप्त किए हैं।  हुनर अब लखनऊ में आयोजित होने वाली तैराकी प्रतियोगिता में भाग लेने की तैयारी कर रही है। हुनर ने कहा कि मेरे पिता सुरेश देशवाल तैराकी के महारथी हैं। पिता से ही मैंने तैराकी सीखी है और उन्हीं के बताए रास्तों पर मैं आगे बढ़ रही हूं। मैं तैराकी में विश्व स्तर पर अपने देश का नाम रोशन करना चाहती हूं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:12 साल की उम्र में झटक लिए मेडल