DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लाइनपार में पेयजल की स्थिति में कोई सुधार नहीं

लाइन पार क्षेत्र में पेयजल किल्लत को लेकर लोंगों में जबरदस्त रोष है। गर्मी के शुरूआती सीजन से ही पेयजल किल्ल्त का सामना कर रहे लोंगों में निगम के प्रति जबरदस्त गुस्सा है। कई पार्षदों ने तो शिकायत दर शिकायतों के बावजूद लगातार गहराते जल संकट पर जलकल अधिकारियो को निशाना बनाया है। अगर यही स्थिति रही तो लोंगों क ा गुस्सा कभी भी सड़कों पर उतर सकता है।


लाइनपार के वार्ड 15 के दोनों नलकूप अब तक सही नहीं कराए गए हैं। मौहल्ला सुंदरपुरी का नलकूप पिछले लगभग तीन साल से खराब पड़ा है जबकि माधोपुरा का नलकूप पिछले ढाई महीने से।

स्थानीय पार्षद सुनील यादव का कहना है कि दोंनों नलकूपो के अलावा आधा दजर्न हैंडपम्प ऐसे हैं जिनकी रिबोरिंग की जानी है। रिबोरिंग ने होने से ये पानी की जगह रेता उगल रहे। इससे पूरे इलाके में पेयजल संकट गहराया हुआ। बोर्ड बैठक में भी नलकूपों को ठीक कराने के संबंध में मांग की गई,लेकिन जलकल अधिकारियों ने अब तक सुध नही ली। उधर, वार्ड 66 प्रतापविहार की कई कालोनियों में पेयजल संकट है। पिछले दिनों यहां के लोंगों ने नलकूप पर पहुंच प्रदर्शन किया था। स्थानीय भाजपा महामंत्री राजेश शर्मा ने बताया कि जलसंकट को लेकर जलकल अधिकारी गंभीर नहीं है। कई बार की शिकायत के बाद भी घरों में पीला,गंदा व प्रदूषित पानी पहुंच रहा है। जो कि स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। लोंगों को खरीदकर पानी पीना पड़ रहा है। लेकिन निगम अधिकारियों को इसकी चिंता नहीं। शर्मा ने चेताया कि अगर यही हालत रही तो लोंगों का लेकर विरोध प्रदर्शन भी किया जाएगा। टीएचए के कई वार्डो में पानी की जबरदस्त किल्लत है। पार्षदों की शिकायत के बाद भी पप्पू कालोनी ,शहीदनगर व ज्वाहर पार्क के खराब हैंडपम्पों को ठीक नही कराया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लाइनपार में पेयजल की स्थिति में कोई सुधार नहीं