DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजलीघर पर हंगामा, फीडर बंद कराए


विद्युत कटौती से भड़के दजर्नों ग्रामीणों ने बिजली घर पर जमकर हंगामा किया। आक्रोशित ग्रामीणों ने न केवल फीडरों को बंद कर दिया बल्कि कर्मचारियों के साथ अभद्रता भी की। यहीं नहीं वह लाग बुक को भी अपने साथ लेकर डीजीएम कार्यालय जा पहुंचे और डीजीएम का घेराव कर जमकर खरीखोटी सुनाई। अभद्रता से नाराज कर्मचारियों ने बिजली घर पर ताला जड़ दिया। हालांकि बाद में किसी तरह मामला शांत किया गया।

घंटों कटौती से आक्रोशित बगवाड़ा, भमरौला, रामनगर, फुलसुंगा, मलसी, गंगापुर, गणेशपुर आदि गांवों के दजर्नों लोग सोमवार को भदईपुरा स्थित बिजली घर पहुंचे। उन्होंने विभाग के खिलाफ नारेबाजी करते हुए पांच फीडरों को जबरन बंद कर दिया।

इस दौरान ग्रामीणों की वहां मौजूद जेई जेपी जखमोला व अन्य कर्मियों के साथ भी जमकर तकरार हुई। ग्रामीणों का कहना था कि गांवों में 14 घंटे से अधिक समय तक कटौती की जा रही है। सुबह पांच बजे से ही बिजली काट दिए जाने से उन्हें खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस पर जेई ने उन्हें समझाने की कोशिश की तो ग्रामीणों ने एक न सुनी।

उन्होंने लागबुक को अपने कब्जे में ले लिया। इससे क्षुब्ध कर्मचारियों ने बिजली घर में ताला लगा दिया और डीजीएम एमआर आर्या व ईई प्रदीप कुमार चौधरी से सुरक्षा की गुहार लगाई। बाद में ग्रामीण डीजीएम कार्यालय पहुंच गये। यहां उन्होंने डीजीएम का घेराव कर जमकर खरीखोटी सुनाई। इस दौरान ग्रामीणों के पक्ष में पहुंचे भाजपा नेता राजेश शुक्ला की भी डीजीएम के साथ तीखी नोकझोंक हुई। बाद में डीजीएम के सुबह 10 से चार बजे व छह से साढ़े आठ बजे तक की कटौती के आश्वासन पर ही ग्रामीण शांत हुए। बाद में वह लागबुक को भी बिजली घर में फैंककर चले गये।

हंगामा करने वालों में बगवाड़ा के प्रधान परमिंदर सिंह, गंगापुर के अवनेंद्र कुमार, फुलसुंगा के शारदा प्रसाद, कुलविंदर सिंह, रमनवीर, मनप्रीत, राजेंद्र सिंह, गुरप्रताप, प्रताप सिंह, रंजीत सिंह, अनमोल समेत करीब चार दजर्न ग्रामीण शामिल रहे।   

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिजलीघर पर हंगामा, फीडर बंद कराए