DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्राचार्य से बाहर जाने को कहा,हंगामा देखकर अभ्यर्थी भी घबराए

रुहेलखंड विश्वविद्यालय के गेस्ट हाउस में प्रवक्ताओं के इंटरव्यू के दौरान जमकर हंगामा हुआ। नौबत मारपीट तक आ गई। दोनों गुटों ने एक दूसरे को खूब खरीखोटी सुनाई। कागज भी छीनने की कोशिश हुई। यह सब देखकर इंटरव्यू देने आए अभ्यर्थी घबरा गए। काफी देर तक तनातनी चलती रही लेकिन विवाद नहीं निपटा।
रविवार को गेस्ट हाउस में आदर्श महाविद्यालय नवाबगंज के लिए समाजशास्त्र और संस्कृत प्रवक्ता का इंटरव्यू था। इंटरव्यू लेने के लिए बरेली कालेज में समाजशास्त्र के अध्यक्ष डा. एसडी ढौडियाल आए। प्रबंध समिति के अध्यक्ष रवि रस्तोगी और सचिव महेश गंगवार भी वहां मौजूद थे। इंटरव्यू के दौरान प्रबंध समिति के पूर्व सचिव डा. एमपी आर्य कुछ और सदस्यों के साथ वहां आए। उन्होंने कहा कि प्रबंध समिति का चुनाव कराए बिना कोई नियुक्ति अवैध होगी। इसलिए इंटरव्यू रोक दिए जाएं। इसी बात पर दोनों पक्षों में तनातनी हो गई। एक दूसरे के ऊपर आरोप लगाए गए और धमकियां दी गईं।

यह सब देखकर वहां अभ्यर्थी घबरा गए। हालात खराब होते देखकर कुछ लोगों ने बीचबचाव किया। आरोप है कि एक्सपर्टस और प्राचार्य डा. महेश वर्मा को भी भला बुरा कहा गया। कुछ देर तक हंगामा होता, उसके बाद एक पक्ष के लोग चले गए। दोपहर बाद संस्कृत प्रवक्ता के लिए इंटरव्यू हुए।

क्या है विवाद
आदर्श महाविद्यालय के बोर्ड आफ कंट्रोल में 187 और प्रबंध समिति में 25 सदस्य हैं। समिति का चुनाव काफी समय से नहीं हुआ। इसे लेकर सात-आठ महीने पहले डिप्टी रजिस्ट्रार पर भी आरोप लगाए गए कि वह चुनाव नहीं होने दे रहे। उनके दफ्तर में भी हंगामा हुआ था। दोनों पक्ष एक दूसरे को गलत बता रहे हैं।

पहले चुनाव की तारीख घोषित की जाए। अध्यक्ष रवि रस्तोगी ने कई प्रवक्ताओं को नौकरी से निकाल दिया। ऐसे लोगों को नौकरी दी गई जो पात्र नहीं हैं। चुनाव जून 2009 में हो जाना चाहिए था लेकिन अध्यक्ष और सचिव ने इसमें अड़ंगे लगाए। जो भी काम हो, वह प्रबंध समिति की सलाह से होना चाहिए। रजिस्ट्रार के यहां झूठी शिकायत की गई। अगर किसी सदस्य पर जांच चल रही है तो चुनाव तो नहीं रोके जा सकते।
-डा. एमपी आर्य, पूर्व सचिव

सोसायटी रजिस्ट्रार आफिस में इनके खिलाफ शिकायत है। जब वहां से अनुमति मिलेगी तो चुनाव कराएंगे। शिक्षकों के चयन पर आपत्ति है तो कुलपति से शिकायत करें। अभी तो एप्रूवल के लिए नाम भेजे जाएंगे। इन लोगों ने इंटरव्यू में उदंडता की और प्राचार्य से बाहर जाने को कहा। - महेश चंद्र गंगवार, सचिव प्रबंध समिति।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्राचार्य से बाहर जाने को कहा,हंगामा देखकर अभ्यर्थी भी घबराए