DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना कॉलेज: आर्ट्स के लिए लोकप्रिय

आर्ट्स की पढ़ाई के लिए अब भी पटना कॉलेज सबसे बढ़िया कॉलेज है। पटना विश्वविद्यालय का यह कॉलेज ह्यूमिनिटी व सोशल साइंस विभाग को लेकर चर्चित रहा है। इस कॉलेज में एडमिशन लेना हर आर्ट्स पढ़ने वाले छात्र का सपना होता है। नए सत्र के लिए जून में एडमिशन प्रक्रिया शुरू होगी। पटना कॉलेज में बीबीए, बीसीए, बीएमसी और बीएफसी की भी पढ़ाई होती है। नौ जनवरी 1863 में इस कॉलेज की स्थापना हुई थी। पहले यहां ट्यूटोरियल क्लासेज पर अधिक जोर दिया जाता था। लेकिन, शिक्षकों की कमी के कारण इसे पूरा कराना संभव नहीं हो पा रहा है। पहले यहां इंटर की पढ़ाई होती थी। लेकिन, अब इंटर की पढ़ाई यहां नहीं होती।

छात्र-छात्राओं के लिए सुविधा
पटना कॉलेज में स्नातक के छात्र-छात्राओं के लिए हॉस्टल की सुविधा है। यहां पर छात्रों के लिए कुल चार ब्वायज हॉस्टल हैं। छात्रओं के लिए गंगा छात्रवास है। हॉस्टल के लिए एक छात्र से 2760 रुपए लिए जाते हैं। छात्र-छात्राओं के लिए यहां कैंटिन की भी सुविधा है। इतना ही नहीं, यहां छात्र-छात्राओं के लिए कॉमन रूम भी है। कॉमन रूम में हर तरह के मैग्जीन व अखबार आते हैं। कॉलेज में खेल के दो मैदान हैं। यहां क्रिकेट, फुटबॉल, टेबुल टेनिस, खो-खो, कब्बडी होती है।

पटना कालेज के प्राचार्य डा.लालकेश्वर प्रसाद सिंह कहते हैं कि पटना कॉलेज प्रशासन छात्रों का विश्वास बरकरार रखने की पूरी कोशिश करेगा। एकेडमिक माहौल में सुधार किया जाएगा। नियमित कक्षाएं होंगी और नए सत्र में छात्रों को सभी सुविधाएं दिलाने को योजना तैयार करेंगे।

कॉलेज से जुड़ीं नामचीन हस्तियां
रामधारी सिंह दिनकर, वाल्मिकी सिंह (सिक्किम के राज्यपाल), अंजनी कुमार सिंह (शिक्षा सचिव), समरेंद्र प्रताप सिंह, जयनंदन सिंह, स्वीकृति सिंह, केके मंडल (न्यायाधीश), प्रो. सिद्धेश्वर प्रसाद सिंह (पूर्व केंद्रीय मंत्री) जसवंत सिंह (पूर्व केंद्रीय मंत्री), रवि शंकर प्रसाद, राज्य वर्धन शर्मा (आइजी), रामशरण शर्मा (इतिहासकार), उदय नारायण चौधरी (बिहार विधानसभा अध्यक्ष)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पटना कॉलेज: आर्ट्स के लिए लोकप्रिय