DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

13 पृष्ठों के अनुवाद पर खर्च हुए 4.50 लाख

13 पृष्ठों के अनुवाद पर खर्च हुए 4.50 लाख

बोफोर्स तोप खरीद में कथित भ्रष्टाचार की जांच के दौरान आरोपी ओत्तावियो क्वात्रोच्चि को अर्जेटीना से भारत प्रत्यर्पित कराने की नाकाम रही कोशिश में सीबीआई ने महज 13 पृष्ठों के अनुवाद पर करीब साढ़े चार लाख और स्थानीय वकील पर लगभग 12.78 लाख रुपए खर्च कर डाले थे। यह खुलासा एक आरटीआई अर्जी के जरिये हुआ है।

प्रत्यर्पण से जुड़े दस्तावेजों के अंग्रेजी से स्पेनिश और स्पेनिश से अंग्रेजी में अनुवाद पर 4 लाख 44 हजार 684 रुपए आया। अनूदित दस्तावेजों में अर्जेटीना सरकार को प्रत्यर्पण के लिए भेजा अनुरोध पत्र और अल डोराडो अदालत का आदेश शामिल था।

आरटीआई कार्यकर्ता अजय अग्रवाल की अर्जी पर मिले जवाब में खुलासा हुआ कि वर्ष 2007 में क्वात्रोच्चि को अज्रेटीना से भारत प्रत्यर्पित कराने की कोशिश में सीबीआई ने अपने दो वरिष्ठ अधिकारियों को दो बार लातिन अमेरिकी देश भेजा। तब इस इतालवी कारोबारी के खिलाफ इंटरपोल का वॉरंट जारी था। उसे अर्जेंटीना में छह फरवरी 2007 को गिरफ्तार किया गया। इसके बाद फरवरी और जून 2007 में सीबीआई अधिकारी आरोपी को प्रत्यर्पित कराने के मकसद से अर्जेटीना गए।

इससे पहले अभिषेक शुक्ला को मिले आरटीआई अर्जी के जवाब में सीबीआई ने कहा था कि क्वात्रोच्चि के प्रत्यर्पण की कोशिश में उसके दो अधिकारियों की यात्रा पर 14 लाख 15 हजार 622 रुपए खर्च हुए थे। यह बात समझ से परे है कि इतने कम पृष्ठों के अनुवाद पर इतनी अधिक राशि कैसे खर्च हुई। सीबीआई के जवाब में कहा गया कि प्रत्यर्पित कराने के लिये एक स्थानीय वकील की भी मदद ली गयी। उसे 12 लाख 78 हजार की राशि दी गयी। स्थानीय वकील के रहने और आवागमन पर 1 लाख 27 हजार रुपऐ की अतिरिक्त राशि खर्च हुई। मलेशियाई प्रशासन ने भी क्वात्रोच्चि को 1999 में हिरासत में लिया था। तब भी सीबीआई उसे भारत प्रत्यर्पित कराने में नाकाम रही थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:13 पृष्ठों के अनुवाद पर खर्च हुए 4.50 लाख