अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजंरग

आयकर-निगरानी का भूत..झारखंड में अब समाजवाद आ गया लगता है। अब इसको समाजवाद नहीं कहेंगे तो का कहेंगे? मंत्री, अफसर, इंजीनियर, ठेकेदार सबकी हैसियत बराबर होती जा रही है। पावर और पैसा के मामले में कोई कम नहीं है। सबने बड़े प्रेम से झारखंड को लूटा है। जिसको जितना बन पड़ा, सबने सरकारी पैसे को खजाने से स्याही सोख की तरह सोख लिया। झारखंड में करोड़ों का बजट। सड़क, बिजली, पानी, सिंचाई हर सेक्टर का पैसा आखिर गया कहां? न खेतवा में पानी पहुंचा, न गांव में बिजली गयी। सड़क का हाल तो आप देखिये रहे हैं। कहां गड्ढा, कहां सड़क पते नय चलता है। अलकतरा घोटाला सुनिये रहे हैं। कोई सेक्टर अयसन नहीं है, जहां घोटाला नहीं हुआ है। आखिर के किया इ घोटाला? मंत्री, अफसर, इंजीनियर, ठेकेदार आउर के? अभी निगरानी में केस का हुआ, दू गो एक्स मिनिस्टर की हैसियत जनता जान गयी। अभी-अभी इनकम टैक्स का छापा पड़ा, तो पारस पत्थर से लेकर सोना तक सब साफ हो गया। अभी तो राज्य में कई गो पारस पत्थर छिपे हैं, धीर-धीर निकल कर बाहर आयेगा। अभी तो सब को आयकर-निगरानी का भूत परशान कइले है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजंरग