DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लम्बे सफर के बाद दिखेंगे खेल

राष्ट्रमंडल खेल देखने वाले खेल प्रेमियों के लिए दिल्ली दूर हो गई। स्टेडियम में बैठकर खेल का लुत्फ उठाने के लिए फरीदाबाद के लाखों लोगों को लंबा सफर तय करना होगा। खेलों के लिए तैयार डीटीसी बस रुटों से शहर को जुदा करने से यह नौबत पैदा हो गई है। इस रुट पर सवारियों का टोटा बताकर भी डीटीसी अफसर अपने फैसले को सही ठहराने पर आमदा हैं। बहरहाल, जाम छोड़ दें तो निजी वाहनों से जाने वालों को कम समस्या का सामाना करना होगा।

गौरतलब है कि डीटीसी ने कॉमनवेल्थ गेम्स की सुरक्षा को लेकर 32 फोकल प्वाइंट और 5 हब्स को लेकर प्लॉन तैयार किया है। इसके तहत एनसीआर के लोगों के लिए 975 बसें चलाने की योजना है। जिसमें 32 फोकल प्वाइंट से 443 बसें हब्स तक चलेंगी। हब्स से 532 बसें स्टेडियम तक लोगों को पहुंचाएंगी। इसमें उद्घाटन और समापन के दिन 465 स्पेशल बसें अतिरिक्त चलाई जाएंगी।

पार्क एंड राइड के लिए भी 200 बसें चलाई जाएंगी। दिल्ली के आनंदविहार, धौलाकुंआ, नेहरुप्लेस, कश्मीरी गेट और शिवाजी स्टेडियम को हब्स में तब्दील किया जाना है। इन हब्स पर नोएडा, गाजियाबाद और गुड़गांव से तो बसों की कनेक्टिविटी बैठती है। फरीदाबाद इससे दूर है।

अभी भी फरीदाबाद से कश्मीरी गेट को छोड़ इन स्थानों के लिए सीधी बसें नहीं चलती। बावजूद इसके इस स्थान के लिए बसों की संख्या कम होती जा रही है। लोगों को इन जगहों पर पहुंचने के लिए बसें बदलने को मजबूर होना पड़ता है। फरीदाबाद से मेडिकल, कश्मीरी गेट के लिए कभी 120 से 150 चक्कर रोज लगाने वाली बसें मात्र 25 से 30 चक्कर ही लगा रही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लम्बे सफर के बाद दिखेंगे खेल