DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बोन मैरो ट्रांसप्लांट सुविधा जल्द

चिकित्सा जगत में अपनी पहचान बना चुके नोएडा के खाते में एक और उपलब्धि जुड़ने वाली है। ब्लड कैंसर की अचूक तकनीक बोन मैरो ट्रांसप्लाट एक महीने के भीतर नोएडा में भी शुरू हो जाएगी। शहर का फोर्टिस अस्पताल बोन मैरो ट्रांसप्लांट की सुविधा शुरू कर रहा है। इस तकनीक के जरिये मरीज की जिंदगी के कम से कम पांच साल बढ़ जाते हैं।

ब्लड कैंसर के मरीजों को सामान्य इलाज में कीमोथेरेपी दी जाती है। कीमोथेरेपी खून की असामान्य रक्त कोशिकाओं को खत्म करने का काम करती है, लेकिन बोन मैरो में नई कोशिकाओं के निर्माण में इस थेरेपी का कोई रोल नहीं है। बोन मैरो ट्रांसप्लांट तकनीक से रक्त कोशिकाएं तेजी से बनती हैं और मर चुकी कोशिकाओं की जगह स्थान ले लेती हैं।

फोर्टिस अस्पताल के निदेशक डॉक्टर अशोक कुमार ने बताया कि इस विधि में बोन मैरो से कुछ रक्त की कोशिकाएं ले ली जाती हैं और एक विशेष तापमान में इन कोशिकाओं से स्टेम सेल अलग करके मरीज के बोन मैरों में ट्रासप्लांट कर दिए जाते हैं। कीमोथेरेपी की मदद से असमान्य रक्त कोशिकाओं को खत्म कर दिया जाता है और स्टेम सेल की मदद से नई रक्त कोशिकाएं बोन मैरी में तेजी से बनने लगती हैं।

डॉ. कुमार ने बताया कि इस पूरी प्रक्रिया में तकरीबन तीन-चार हफ्ते का समय लगता है। बोन मैरो ट्रांसप्लांट की स्टेम सेल तकनीक से इलाज में कई मरीज पूरी तरह से स्वस्थ हो जाते हैं, जबकि कुछ की जिंदगी कम से कम पांच साल बढ़ जाती है। निदेशक ने बताया कि अस्पताल में मशीने लगाई जा चुकी हैं। अब बस तकनीकी विशेषज्ञों की टीम द्वारा निरीक्षण किया जाना बाकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बोन मैरो ट्रांसप्लांट सुविधा जल्द