DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दूसरे एशियाई बैडमिंटन चैम्पियन की तलाश में उतरेगा भारत

दूसरे एशियाई बैडमिंटन चैम्पियन की तलाश में उतरेगा भारत

सायना नेहवाल को महिला एकल और ज्वाला गुट्टा तथा वी दीजू को मिश्रित युगल में मिली शीर्ष वरीयता से उत्साह से लबरेज भारतीय खिलाड़ी जब सोमवार से शुरू हो रही एशियाई बैडमिंटन चैम्पियनशिप में उतरेंगे तो उनका लक्ष्य देश को दूसरा एशियाई चैम्पियन देना होगा।

वर्ष 1962 में शुरू हुई इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता में अब तक केवल एक भारतीय दिनेश खन्ना खिताब जीतने में सफल रहे हैं जो 1965 में लखनऊ में एशियाई चैम्पियन बने। भारत को हालांकि इस सफलता के 45 बरस बीत जाने के बाद भी दूसरे एशियाई चैम्पियन का इंतजार है और सायना तथा ज्वाला और दीजू की जोड़ी को शीर्ष वरीयता मिलने से उसकी उम्मीदें बढ़ गई हैं।

यहां के सिरी फोर्ट खेल परिसर में इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता के मुख्य वर्ग के मुकाबले 14 अप्रैल से शुरू होंगे और तभी भारतीय खिलाड़ियों को असली चुनौती का सामना करना होगा। हालांकि चीन के कुछ चोटी के खिलाड़ियों की गैर मौजूदगी में प्रतियोगिता का ग्लैमर कुछ कम हुआ है लेकिन यहां कड़ी प्रतिद्वंद्विता से इंकार नहीं किया जा सकता।

भारत को हालांकि अपने शीर्ष पुरुष एकल खिलाड़ी चेतन आनंद के घुटने में दर्द के कारण प्रतियोगिता से बाहर होने से झटका लगा है जिन्हें पदक का संभावित दावेदार माना जा रहा था लेकिन राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद ने उम्मीद जताई कि अन्य खिलाड़ी उनकी कमी की भरपाई करने में सफल रहेंगे।

गोपीचंद ने कहा कि चेतन की चोट हमारे लिए बड़ा झटका है लेकिन उसकी चोट गंभीर नहीं है और वह जल्द ही वापसी करेगा। हमारे पास अनूप श्रीधर और अरविंद भट के रूप में अच्छे खिलाड़ी हैं जो चेतन की गैरमौजूदगी में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं।

महिला एकल में भारतीय चुनौती की अगुआई सायना करेंगी जो बेहतरीन फार्म में चल रही हैं। हाल में आल इंग्लैंड चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली साइना को 14 अप्रैल को पहले दौर के अपने मैच में थाईलैंड की पोर्नटिप बुरानाप्रासेरत्सुक के रूप में मजबूत चुनौती का सामना करना है।

दुनिया की छठे नंबर की खिलाड़ी और शीर्ष वरीय सायना ने पोर्नटिप को मजबूत प्रतिद्वंद्वी बताया। उन्होंने कहा कि मेरा पहले दौर का मुकाबला काफी कड़ा है। मैंने पिछले मैच में उसे हराया था। मैं अच्छी फार्म में हूं और पूरी तरह फिट हूं। मुझे पूरा भरोसा है कि मैं उसे कड़ी टक्कर दूंगी।

गोपीचंद ने भी स्वीकार किया कि सायना का ड्रा पेचीदा है। उन्होंने कहा कि सायना के लिए ड्रा थोड़ा पेचीदा है। उसे पहले दौर में पोर्नटिप बुरानाप्रासेरत्सुक और दूसरे दौर में जूलिया पेई शियान वोंग से भिड़ना है। सायना को अतीत में करीबी मैचों में उनके हाथों शिकस्त झेलनी पड़ी है इसलिए उसका ड्रा थोड़ा पेचीदा है। सायना के अलावा महिला एकल में सयाली गोखले, अदिति मुतातकर और नेहा पंडित भी भारत की ओर से चुनौती पेश करेंगी।

पुरुष एकल में चेतन की गैरमौजूदगी में भारतीय उम्मीदों का दारोमदार 13वें वरीय के पाएपाली, 16वें वरीय अरविंद भट, अनूप श्रीधर, अजय जयराम, के नंदगोपाल, जीआरएम वेंकट और आनंद पवार पर है।

मिश्रित युगल में ज्वाला और दीजू की जोड़ी को खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा है जो हाल में मलेशिया में वर्ल्ड सुपर सीरीज के फाइनल में पहुंची थी। इस शीर्ष वरीय जोड़ी को पहले दौर में क्वालीफायर से भिड़ना है। दीजू की पीठ में हालांकि तकलीफ है लेकिन उन्होंने कहा कि इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। दीजू ने कहा कि उन्हें कम से कम क्वार्टर फाइनल में पहुंचने का भरोसा है।

केरल के इस खिलाड़ी ने कहा कि मैंने ड्रा देखा है और मुझे लगता है कि हम कम से कम र्क्वाटर फाइनल में पहुंचेंगे। हमें अंतिम आठ में चीनी जोड़ी से भिड़ना पड़ सकता है और इसके बाद मुकाबला कड़ा होगा।

दीजू और ज्वाला के अलावा जिश्नु सान्याल और पी ज्योत्सना, तएण कोना और श्रुति कुरियन तथा अएण विष्णु और अपर्णा बालन की अनुभवी जोड़ी भी भारत की ओर से चुनौती पेश करेगी।

पुरुष युगल में भारत की तीन जबकि महिला युगल में दो जोड़ियां खिताब की दौड़ में रहेंगी। पुरुष युगल में रूपेश कुमार और सनावे थामस भारतीय चुनौती की अगुआई करेगी। इस तीसरी वरीय जोड़ी को पहले दौर में 15 अप्रैल को क्वालीफायर जोड़ी से भिड़ना है। उनके अलावा तरुण और जिश्नु तथा अक्षय और अएण की जोड़ी भी मैदान में है।

महिला युगल में ज्वाला और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी मेइलाना जोहारी और ग्रेसिया पोली की इंडोनेशिया की जोड़ी के खिलाफ अभियान की शुरुआत करेगी जबकि अपर्णा बालन और श्रुति कुरियन का सामना पहले दौर में आइंग शिंग और बेइवेन झांग की सिंगापुर की जोड़ी से होगा।

बारह और 13 अप्रैल को क्वालीफाइंग राउंड खेले जाएंगे जबकि 14 अप्रैल को पुरुष एकल और इसके अगले दिन महिला एकल और मिश्रित युगल के मैचों की शुरूआत होगी। पुरुष युगल और महिला युगल के मैच 15 अप्रैल से खेले जाएंगे। भारतीय चुनौती की शुरूआत 12 अप्रैल को होगी जब पीसी तुलसी और गायी वरतक महिला एकल क्वालीफाइंग में उतरेंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दूसरे एशियाई बैडमिंटन चैम्पियन की तलाश में उतरेगा भारत