DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीमा-कंपनी को उम्र कम बताने पर दावे हो सकते हैं खारिज

बीमा-कंपनी को उम्र कम बताने पर दावे हो सकते हैं खारिज

राष्ट्रीय उपभोक्ता आयोग ने कहा है कि यदि पॉलिसी धारक ने बीमा कराते वक्त अपनी उम्र कम करके बताई है, तो इंश्योरेंस कंपनी उसके दावे को खारिज कर सकती है।

आयोग ने भारतीय जीवन बीमा निगम को एक मामले में क्लीन चीट देते हुए कहा कि इस तरह का कोई दावा सही तथ्यों को छिपाने के आधार पर खारिज किया जा सकता है।

आयोग ने उस दावे को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि पॉलिसी धारक ने बीमा कराते वक्त अपनी उम्र गलत बताई थी।

इस मामले में कंपनी ने पाया कि पॉलिसी धारक ने सबूत के रूप में लाइसेंस की एक प्रति को जमा करते हुए अपने जन्म की तारीख गलत बताई थी। बहरहाल, इस पॉलिसी धारक का निधन पॉलिसी लेने के तीन महीनों के भीतर ही हो गया था।

आयोग ने कहा कि किसी व्यक्ति की उम्र लाइसेंस की बजाय उसके स्कूल प्रमाणपत्र में अंकित तारीख से निर्धारित किया जाना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीमा-कंपनी को उम्र कम बताने पर दावे हो सकते खारिज