DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉपी सड़क पर मिलने की जाँच एचओडी को सौंपी

एमए अंतिम वर्ष अंग्रेजी की कॉपियों का बंडल सड़क पर मिलने की घटना से शनिवार को इलाहाबाद विश्वविद्यालय परिसर में हड़कम्प जैसी स्थिति रही। हर ओर बस इसी घटना की चर्चा थी। परीक्षा नियंत्रक प्रो. एचएस उपाध्याय ने सुबह दफ्तर पहुँचते ही अपने दफ्तर के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को तलब कर इस मसले पर विचार किया।

उन्होंने अंग्रेजी विभाग के विभागाध्यक्ष को पत्र लिखकर मामले की जाँच कर 12 अप्रैल तक रिपोर्ट देने के लिए कहा है जबकि इस विभाग की शिक्षिका डॉ. श्रुति पंत को पत्र लिखकर स्पष्टीकरण माँगा गया है। डा. पंत को ही कॉपियाँ जाँचने के लिए दी गई थीं, विभाग से जानकारी मिली है कि कॉपियों का बंडल डॉ. पंत को उपलब्ध करा दिया गया था। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि शुक्रवार की शाम को बैंक रोड पर बंडल उन्हीं की कार से गिरा।

उधर, परीक्षा नियंत्रक ने कुलपति प्रो. आरजी हर्षे तथा कला संकाय के अधिष्ठाता को पत्र लिखकर पूरे मामले की जानकारी दी है और संबंधित साक्ष्य भी उपलब्ध करवाए गए हैं। परीक्षा नियंत्रक प्रो. उपाध्याय का कहना है कि विभागाध्यक्ष ने अपने दफ्तर से जानकारी कर मौखिक तौर पर उन्हें बताया है कि कॉपियां डॉ. पंत को प्राप्त करा दी गई थीं। विभागाध्यक्ष की लिखित जाँच रिपोर्ट और डॉ. पंत का स्पष्टीकरण मिलने के बाद ही इस बारे में कोई कार्रवाई की जाएगी।

इस पूरे मामले को परीक्षा समिति के सामने रखा जाएगा। कॉपियों का बंडल सार्वजनिक तौर पर खुल गया है इसलिए परीक्षा निरस्त की जा सकती है हालाँकि इस बारे में निर्णय परीक्षा समिति ही करेगी। अंग्रेजी विभाग की शिक्षिका डॉ. पंत से संपर्क करने का प्रयास किया गया पर शनिवार को तो उनके घर का फोन किसी ने उठाया ही नहीं। डॉ. पंत सिर्फ अखबारों वालों ही नहीं परीक्षा नियंत्रक का भी फोन नहीं उठा रही हैं। परीक्षा नियंत्रक ने शनिवार को उनसे संपर्क करने की कोशिश की पर सफल नहीं हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कॉपी सड़क पर मिलने की जाँच एचओडी को सौंपी