DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिन्दू कॉलेज परंपराओं का इंद्रधनुष

हिन्दू कॉलेज परंपराओं का इंद्रधनुष

इस कॉलेज की बात ही निराली है। लगभग 111 वर्ष पहले स्थापित इस कॉलेज ने देश की आजादी की लड़ाई में तो अपना योगदान दिया ही, आज भी अनेक खास परंपराओं के माध्यम से छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के बीच खासा लोकप्रिय बना हुआ है। अपने शैक्षिक स्तर के लिए देशभर के कुछ चुनिंदा कॉलेज में शामिल यह कॉलेज अन्य गतिविधियों के लिए भी खासा लोकप्रिय है। सन 1935 से यहां छात्रों की पार्लियामेंट का चलन है जिसमें कॉलेज छात्र संघ के पदाधिकारियों की जगह प्रधानमंत्री व अनेक मंत्री होते हैं। इस पर्लियामेंट के अध्यक्ष एक शिक्षक होते हैं जो कॉलेज रिपब्लिक के प्रिंसिपल द्वारा मनोनित होता है। यह है दिल्ली विश्वविद्यालय के सबसे पुराने कॉलेजों में से एक हिन्दू कॉलेज।

छात्राओं के लिए बनेगा छात्रावास

कॉलेज के प्रिंसिपल प्रो. विनय कुमार श्रीवास्तव का पूरा ध्यान ‘क्वालिटी ऑफ टीचिंग’ पर है। वे कहते हैं, पहले हमें अपने वर्तमान तमाम कोर्स को मजबूत करना है। इन कोर्स के लिए संसाधन को दुरुस्त करना है और जब सारे वर्तमान कोर्स बहुत अच्छी तरह संचालित होने लग जाएंगे तो नए कोर्स के बारे में सोचना है। यहां छात्रों के लिए तो 250 सीटों वाला छात्रावास तो है ही, छात्राओं के लिए भी छात्रावास की योजना बनाई जा रही है। जल्द ही हिन्दू कॉलेज की एक विशेष लेक्चर सीरीज शुरू की जाएगी।

चार सौ सीटें बढ़ेंगी

कॉलेज के बेहद लोकप्रिय कोर्स में कॉमर्स, इकोनोमिकस आदि प्रमुखता से शामिल हैं। वैसे यहां अंग्रेजी, हिन्दी, हिस्ट्री, मैथेमेटिक्स, म्यूजिक, फिलॉस्फी, पोलिटिकल साइंस, संस्कृत, सोसियोलॉजी में बीए ऑनर्स, बीकॉम ऑनर्स, फिजिकल साइंस और अप्लाएड फिजिकल साइंस  में बीएससी, बोटनी, केमेस्ट्री, मैथमेटिक्स, फिजिक्स, स्टेटिस्टिक्स, जूलोजी में बीएससी ऑनर्स की पढ़ाई की व्यवस्था है। कॉलेज में पिछले वर्ष सीटों की संख्या लगभग 26 सौ थी जो इस वर्ष तीन हजार हो जाएगी।

कॉलेज की यूएसपी

कॉलेज के पूर्व छात्रों में प्रसिद्ध इतिहासकार प्रो. बिपिन चन्द्रा, प्रसिद्ध क्रिकेटर गौतम गंभीर, फिल्म अभिनेता अर्जुन रामपाल, अभिनेत्री तिष्का चोपड़ा, फिल्म निर्देशक इम्तियाज अली जैसी अनेक नामचीन हस्तियां शामिल हैं।

इस कॉलेज की छात्र पर्लियामेंट ने स्वतंत्रता आंदोलन के समय महात्मा गांधी, पं. मोतीलाल नेहरू, प. जवाहरलाल नेहरू, सरोजिनी नायडु, सुभाषचन्द्र बोस, मो. अली जिन्ना जैसे प्रमुख नेता आते रहे और स्वतंत्रता संग्राम में शामिल होने के लिए युवाओं को प्रोत्साहित करते रहे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हिन्दू कॉलेज परंपराओं का इंद्रधनुष