DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यह है शादी हिंदुस्तानी

शीर्षक होना चाहिए था- फिर भी दिल है हिंदुस्तानी। सब ठीक-ठाक चलता तो होता भी यही। क्योंकि यह खबर आते ही कि सानिया मिर्जा और शोएब मलिक की शादी हो रही है, सानिया ने कहा था कि बेशक वे पाकिस्तानी क्रिकेटर से शादी कर रही हैं और रहेंगी दुबई में, पर हिंदुस्तान के लिए खेलती रहेंगी। खुद शोएब अपने बारे में क्या कहते बेचारे? क्योंकि पाकिस्तान में तो कोई नहीं कह सकता कि कौन प्लेयर कितना और कब तक खेलेगा। सो पक्के तौर पर उन्होंने सानिया के बारे में ही कहा कि शादी के बाद भी वे हिंदुस्तान के लिए खेलती रहेंगी।

लेकिन बाल ठाकरे को विश्वास नहीं हुआ। उनका मानना था कि सानिया का दिल हिंदुस्तानी नहीं है, अगर होता तो एक पाकिस्तानी के लिए क्यों धड़कता। उन्हें तो बाकायदा गा-गा कर यह कहनेवाले शाहरुख खान पर ही विश्वास नहीं हुआ कि उनका दिल है हिंदुस्तानी, जबकि उन्होंने तो सिर्फ आईपीएल में पाकिस्तानी क्रिकेटरों के खेलने की ही हिमायत की थी।
 
फिलहाल तो जो शादी हो रही है, वह है हिंदुस्तानी। फुल ऑफ पंगाज। हमारे यहां जब कानी के ब्याह को सौ जोखिम होते हैं तो सानिया जैसी सेलिब्रिटी का ब्याह इतनी आसानी से कैसे हो जाता। वैसे भी हमारे शादी-ब्याह में नाते-रिश्तेदारों के रूठने का रिवाज है।

हमारी फिल्मों में फुल ड्रामा यूं ही नहीं होता कि ऐन भांवरों की बेला कोई लड़की कल्पती हुई पहुंच जाती है कि हे प्राणनाथ, मुझसे यह अन्याय क्यों कर रहे हैं। मैं आपके बच्चे की मां बननेवाली हूं। सानिया और शोएब की शादी में ठीक यही पंगा पड़ा है। आयशा सिद्दीकी ने आकर अपना दामन फैला दिया और हे प्राणनाथ टाइप गुहार लगा दी। हमने भी यह साबित किया कि बेगानी शादी में अब्दुल्ला यूं ही दीवाना नहीं हुआ करता। अरे भाई यह है शादी हिंदुस्तानी।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:यह है शादी हिंदुस्तानी