DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रीति की प्रार्थना कबूल, किंग्स ने लहराया जीत का परचम

प्रीति की प्रार्थना कबूल, किंग्स ने लहराया जीत का परचम

सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो चुकी किंग्स इलेवन पंजाब ने कुमार संगकारा (42 गेंद में 56 रन) की कप्तानी पारी से शुक्रवार को यहां इंडियन प्रीमियर लीग के टी20 मैच में फार्म में चल रही मुंबई इंडियंस को छह विकेट से हराकर घरेलू मैदान पर आत्मसम्मान बचाया।

संगकारा का बल्ला अभी तक आईपीएल तीन में अपनी चमक नहीं बिखेर सका है, लेकिन शुक्रवार को उन्होंने फार्म में वापसी करते हुए आईपीएल का सातवां अर्धशतक जमाकर प्रीति जिंटा की टीम को पीसीए स्टेडियम में 155 रन के सम्मानजनक लक्ष्य के जवाब में चार गेंद रहते में चार विकेट पर 158 रन बनाकर जीत दिलायी। प्रीति गुरुवार को हरिद्वार में कुंभ स्नान करने पहुंची थी, लगता है उनकी प्रार्थना टीम के काम आयी।

इससे पहले पीयूष चावला और इरफान पठान के तीन-तीन विकेटों की बदौलत अंतिम और आठवें स्थान पर काबिज पंजाब ने मुंबई इंडियंस को नौ विकेट पर 154 रन ही बनाने दिये। पंजाब की टीम के 11 मैचों में सिर्फ छह अंक हैं और वह अंतिम चार की दौड़ से बाहर है।

दूसरी ओर सचिन तेंदुलकर की अगुवाई वाली मुंबई इंडियंस की एक और जीत दर्ज कर दबदबा बरकरार रखने की कोशिश नाकाम रही और टीम 10 मैचों में सात जीत और तीन हार से 14 अंक से शीर्ष पर काबिज है, उसका सेमीफाइनल में प्रवेश करना तय है। मुंबई को इससे पहले रायल चैलेंजर्स बेंगलूर और चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ पराजय झेलनी पड़ी है।

अंतिम ओवर में टीम को जीत के लिये तीन रन की जरूरत थी, जहीर खान के इस ओवर में इरफान पठान (छह गेंद में एक चौके और एक छक्के से 15 रन) ने पहली गेंद पर दो रन बनाने के बाद मिड आन पर बेहतरीन चौका जमाकर जीत दिलायी। सलामी बल्लेबाज एड्रियन बराथ ने 33, महेला जयवर्धने ने 31 और युवराज सिंह ने 15 रन का अहम योगदान दिया।

श्रीलंकाई विकेटकीपर बल्लेबाज संगकारा ने 42 गेंद में छह चौके और एक छक्के की मदद से कप्तानी पारी खेलकर पिछले मैच में राजस्थान रायल्स से नौ विकेट से हारने वाली टीम को जीत की ओर अग्रसर किया, जिससे उन्हें मैन आफ द मैच पुरस्कार से भी नवाजा गया। मुंबई की तरफ से लसिथ मलिंगा ने दो जबकि किरोन पोलार्ड और जेपी डुमिनी ने एक एक विकेट चटकाया।

बल्लेबाजों की ऐशगाह पिच पर दर्शक तेंदुलकर का जलवा देखने की उम्मीद लगाये थे, लेकिन उन्हें मायूस होना पड़ा। तेंदुलकर ने 29 रन बनाये, हालांकि इससे वह 10 मैचों में 423 रन बनाकर टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन बनाने वाले जाक कैलिस के बाद दूसरे बल्लेबाज हैं। चेन्नई के खिलाफ पिछले मैच में भी वह गर्मी और थकान के कारण रिटायर हो गये थे और उन्होंने शानदार बल्लेबाजी का वादा किया था।

चावला और पठान की गेंदबाजी के आगे टास जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी मुंबई की टीम का बल्लेबाजी क्रम ताश के पत्ते की तरह ढह गया और लगातार विकेट गिरने से पहले डुमिनी ने 35, अंबाती रायडू ने 33 और कप्तान तेंदुलकर ने 29 रन का योगदान देकर टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।
   
पंजाब ने अंतिम एकादश में पांच बदलाव किये। लेकिन चावला ने 24 रन देकर तीन और पठान ने 29 रन देकर तीन विकेट हासिल किये और शानदार गेंदबाजी से मेहमान टीम को इस स्कोर तक रोकने में सफल रहे।

पठान ने शिखर धवन (02) को अपनी पहली गेंद में आउट कर मुंबई को करारा झटका दिया, लेकिन तेंदुलकर और रायडू के बीच 44 रन की भागीदारी से उन्हें शुरूआती झटके से उबरने में मदद मिली। इन दोनों में से रायडू काफी आक्रामक दिखे।

रायडू ने ब्रेट ली और पठान की गेंदों की धज्जियां उड़ायीं। रायडू ने छठे ओवर में पठान के ओवर में लगातार तीन चौके जमाये, लेकिन अगले ही ओवर में चावला ने उन्हें बोल्ड किया। चावला ने फिर अपने अगले ओवर में खतरनाक दिख रहे सौरभ तिवारी (04) को पवेलियन भेजा और तीसरे ओवर में भी उन्होंने तेंदुलकर के रूप में शानदार विकेट हासिल किया।

पठान ने आर सतीश (20) की पारी का अंत करने के बाद पोलार्ड (18) का विकेट हासिल किया। अगर यह आल राउंडर आउट नहीं होता तो वह खतरनाक साबित हो सकता था। एक छोर पर विकेट गिरने का सिलसिला जारी रहा, लेकिन आईपीएल तीन में आगाज में समझदारी से खेल रहे डुमिनी अंत तक बने रहे।

दक्षिण अफ्रीका के बांये हाथ के बल्लेबाज ने आगे बढ़कर ब्रेट ली की गेंद पर गगनचुंबी छक्का जमाया और रमेश पोवार की गेंद पर भी उन्होंने एक छक्का जड़ा। मुंबई इंडियंस ने अंतिम ओवर में तीन विकेट गंवाये, जिसमें डुमिनी का विकेट भी शामिल था, जो अंतिम गेंद पर रन आउट हो गये। इस तरह उन्होंने अंतिम ओवर में चार रन ही बनाये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रीति की प्रार्थना कबूल, किंग्स ने लहराया जीत का परचम