DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूसू प्रधान पर जानलेवा हमला

पंजाब यूनिवर्सिटी में चुनाव का दौर शुरू होने में अभी महीनों बाकी हैं, लेकिन हिंसक घटनाओं की शुरुआत हो चुकी है। पीयू के पंजाब यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स काउंसिल (पूसू) के कैंपस प्रेसीडेंट और अगले चुनाव के लिए अध्यक्ष पद के दावेदार उदय विडिंग ने आरोप लगाया है कि बुधवार देर रात उन पर जानलेवा हमला हुआ है। हवाई फायरिंग और गाली-गलौच का भी आरोप उदय की ओर से लगाया गया है। हालांकि इस घटना में किसी के जख्मी होने की सूचना नहीं है।

पुलिस के अनुसार भूपिंदर सिंह और उदय विडिंग बुधवार रात करीब एक बजे अपने 11 सेक्टर स्थित मकान नंबर 632 के आगे खड़े थे। इसी बीच कुछ युवक एक डिजायर और एक ऑप्ट्रा कार में आए और धमकी देने लगे। जाते समय फायरिंग कर गए। डिजायर कार का नंबर नोट हो गया है, जबकि ऑपट्रा कार का नंबर नोट नहीं हो सका। पुलिस ने आरोपियों को तलाश शुरू कर दी है।

उदय सिंह पंजाब यूनिवर्सिटी में बीडीएस का छात्र है। सितंबर महीने में होने वाले छात्रसंघ चुनाव में वह पूसू की ओर से अध्यक्ष का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा है। एसएचओ सुखबीर राणा का कहना है कि आरोपियों की तलाश जारी है और वीरवार शाम तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका। उल्लेखनीय है कि छात्र काउंसिल चुनाव के लिए पुलिस और पीयू प्रबंधन वैसे मुस्तैद रहता है, लेकिन पुलिस सूत्रों का कहना है कि इस साल चुनाव से पहले ही महौल हिंसक होने के चलते इस वर्ष चुनाव में और मुस्तैदी बरतने की जरूरत पड़ेगी।

इनके खिलाफ दर्ज कराया मामला
विक्रमजीत सिंह, रॉबिन बराड़, जसविंदर सिंह, हर्षवर्धन, जसदीप सिंह, विनय सिंह और पीयू छात्रसंघ के अध्यक्ष अमित भाटिया के खिलाफ शिकायत दी गई है। ये सभी स्टूडेंट ऑर्गेनाइजेशन ऑफ पंजाब यूनवर्सिटी (सोपू) से जुड़े हुए बताए जाते हैं। पुलिस ने उदय सिंह के पिता भूपिंदर सिंह की शिकायत पर उत्पात मचाने, कत्ल का प्रयास करने और आर्म्स एक्ट के तहत सेक्टर-11 थाने में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

इनका कहना है
हम घर के बाहर खड़े थे, तभी सोपू के सदस्य आए और गाली-गलौच कर जाते समय फायरिंग कर गए। हम तो किसी तरह बच गए। फायरिंग के निशान अब भी घर के बाहर बने हुए हैं।
उदय विडिंग, पूसू प्रधान

मेरा इस मामले से कोई लेना देना नहीं है। मैं तो सुबह ही स्टूडेंट काउंसिल की ओर से बस बनवाने जलंधर आया हुआ हूं। ये सारे आरोप मनगढंत हैं। इस तरह से पार्टी की रंजिश में किसी भी छात्र का करियर खराब नहीं करना चाहिए।
अमित भाटिया, छात्रसंघ अध्यक्ष

पुराना है आरोप-प्रत्यारोप का दौर
पीयू के छात्र संगठनों विशेषकर सोपू और पूसू के बीच यह कोई नया आरोप-प्रत्यारोप का मामला नहीं है। इससे पहले भी एक मामले में विपक्षी के खिलाफ शिकायतें कराई जाती रही हैं। यूआईएलएस में सिमरजीत सिंह संधू पर तलवार से हमले के आरोप में सोपू नेता हरप्रीत सिंह मुल्तानी और बरींद्र ढिल्लों को जेल की हवा खानी पड़ी थी, वहीं पिछले वर्ष चुनाव के समय हवाई फायरिंग की घटना में पूसू नेता सिमरनजीत ढिल्लों को जेल जाना पड़ था। इस मामले में पूसू नेता तेजपाल सिंह चीमा और परमिंदर जसवाल अब तक फरार हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पूसू प्रधान पर जानलेवा हमला