DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चेन्नई की आस पर पानी फेरने उतरेगा डेक्कन

चेन्नई की आस पर पानी फेरने उतरेगा डेक्कन

लगातार पांच हार के बाद रायल चैलेंजर्स बेंगलूर पर जीत से आत्मविश्वास हासिल करने वाली डेक्कन चार्जर्स की टीम शनिवार को इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपर किंग्स की सेमीफाइनल की आशाओं पर पानी फेरने के लिए उतरेगी।

डेक्कन ने दस मैच में से अभी तक छह में जीत दर्ज की है और वह अगर मगर के चक्रव्यूह को सफलतापूर्वक पार करने से ही सेमीफाइनल में पहुंच सकता है। बेंगलूर के खिलाफ कल रात सात विकेट की जीत से उसका मनोबल बढ़ा है और अब वह अपने बाकी बचे चारों मैच जीतकर बाकी टीमों के समीकरण बिगाड़ सकता है।

पिछली बार जब इन दोनों टीमों का मुकाबला हुआ था तो एंड्रयू साइमंडस ने 43 गेंद पर 50 रन बनाने के साथ ही दो महत्वपूर्ण विकेट लेकर चेन्नई को पस्त कर दिया था। अब हालांकि चेन्नई को हराना आसान नहीं होगा क्योंकि उसकी टीम बेहतरीन फार्म में है और उसने पिछले तीन मैच में बेंगलूर, राजस्थान और अंकतालिका में शीर्ष पर चल रहे मुंबई इंडियन्स को शिकस्त देकर खुद को सेमीफाइनल की दौड़ में शामिल किया।

लगातार फ्लाप रहने के बाद डेक्कन के मध्यक्रम के बल्लेबाज फिर से लय में दिखायी देने लगे हैं। रोहित शर्मा ने राजस्थान के खिलाफ अच्छी पारी खेली जबकि टी सुमन (78) और एंड्रयू साइमंडस की 91 रन की अटूट साझेदारी की बदौलत डेक्कन ने आरसीबी के 184 रन के स्कोर को चार गेंद शेष रहते ही पार कर लिया था।

चार्जर्स के लिए सलामी जोड़ी चिंता का विषय है क्योंकि वीवीएस लक्ष्मण, मोनीश मिश्र और हर्शल गिब्स कोई भी ओपनर के तौर पर सफल नहीं रहे हैं। एडम गिलक्रिस्ट भी अपनी सर्वश्रेष्ठ फार्म में नहीं हैं। रोहित भी लगातार अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे हैं। उन्होंने अब तक दस मैच में 264 रन बनाए हैं जिसमें केवल एक अर्धशतक शामिल है।

गेंदबाजी में प्रज्ञान ओझा के प्रदर्शन में एकरूपता देखने को मिली है। उन्होंने अब तक 15 विकेट लिए हैं और वह आईपीएल थ्री में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में शामिल हैं। आरपी सिंह अंदर बाहर होते रहे हैं और उनके नाम पर नौ विकेट दर्ज हैं। साइमंडस भी अपनी गेंदबाजी से बल्लेबाजों को परेशान करते रहे हैं। उन्होंने नौ विकेट हासिल किए हैं।

जहां तक चेन्नई का सवाल है तो उसके दस मैच में पांच जीत से दस अंक हैं और वह अंतिम चार में पहुंचने का दावेदार है। महेंद्र सिंह धोनी की टीम के बल्लेबाज हालांकि लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं जो उनके लिए चिंता का विषय है। उसके सलामी बल्लेबाज मैथ्यू हेडन कुछ अवसरों पर ही अपना पराक्रम दिखा पाए हैं। हालांकि मुरली विजय ने 78 और 127 रन की दो उपयोगी पारियां खेली हैं लेकिन पिछले मैच में वह जल्दी पवेलियन लौट गए थे।

मध्यक्रम में सुरेश रैना और महेंद्र सिंह धोनी अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदलने में नाकाम रहे हैं। आस्ट्रेलियाई माइकल हसी के आने से टीम की बल्लेबाजी मजबूत हुई है और धोनी कल उनका अच्छी तरह से उपयोग करना चाहेंगे।

गेंदबाजी में मुथैया मुरलीधरन चेन्नई के सबसे विश्वसनीय गेंदबाज हैं लेकिन उन्होंने काफी रन भी लुटाए हैं। पिछले मैच में उनकी अनुपस्थिति में आर अश्विन, तिलन तुषारा और शादाब जकाती ने अच्छी भूमिका निभाई थी। तेज गेंदबाज डग बोलिंजर ने हालांकि उनकी गेंदबाजी को मजबूती प्रदान की है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चेन्नई की आस पर पानी फेरने उतरेगा डेक्कन