DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

3-जी मोबाइल सेवा के लिए रेडियो स्पेक्ट्रम की नीलामी

3-जी मोबाइल सेवा के लिए रेडियो स्पेक्ट्रम की नीलामी

भारत में तीसरी पीढ़ी (3-जी) मोबाइल सेवाओं के लिए रेडियो स्पेक्ट्रम की नीलामी की प्रक्रिया शुक्रवार सुबह सुचारू रूप से शुरू हुई, जिसमें भारती, वोडाफोन, रिलायंस और टाटा सहित शीर्ष दूरसंचार कंपनियां भाग ले रही हैं।

मोबाइल फोन से आवाज और लिखित संदेश तथा तस्वीरों को भेजने में समर्थ पहली और दूसरी पीढ़ी की सेवाओं के बाद 3-जी या तीसरी पीढ़ी की मोबाइल सेवा के जरिए लोग अपने मोबाइल सेट पर ब्रांडबैंड इंटरनेट की सुविधाएं और फिल्म आदि का लुत्फ ले सकेंगे।

3-जी नीलामी से सरकार को 35 हजार करोड़ रुपए या उससे अधिक की आमदनी हो सकती है। नीलामी के बारे में जानकारी लेने के लिए संपर्क करने पर दूरसंचार विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सभी 22 दूरसंचार सर्किलों में नीलामी की प्रक्रिया सहज ढंग से शुरू हो चुकी है।

यह पूछे जाने पर कि क्या सरकार को 35 हजार करोड़ रुपए की आमदनी हो जाएगी तो सरकारी अधिकारी ने कहा कि अभी कुछ कहना मुश्किल है। क्या हासिल होगा यह इस बात पर निर्भर करेगा कि कंपनियों के बीच लाइसेंस के लिए होड़ कितनी है।

इस दौड़ में नौ मोबाइल फोन सेवा कंपनियां शामिल हैं, जिसमें छह बड़ी कंपनियां भी हैं। प्रत्येक सर्किल में तीन से चार कंपनियों को जगह मिल सकती है।

अखिल भारतीय 3-जी लाइसेंस के लिए बोली लगा रही कंपनियों में भारती एयरटेल, रिलायंस टेलिकाम, आइडिया सेल्युलर, वोडाफोन एस्सार, टीटीएसएल और एयरसेल शामिल हैं। इसके साथ ही ब्राडबैंड वायरलेस सेवा (बीडब्ल्यूए) के लिए भी बोली आमंत्रित की जा रही है। सरकार को 3 जी और बीडब्ल्यूए स्पेक्ट्रम की नीलामी से न्यूनतम 30,000 करोड़ से 35,000 करोड़ रुपए मिलने की उम्मीद है।

नीलामी पूरा करने के लिए कोई अंतिम तिथि निर्धारित नहीं है पर समझा जाता है कि यह तीन सप्ताह तक चलेगी। हर दिन सुबह नौ बजे से शाम 7.30 बजे तक बोलियां दर्ज कराई जा सकती है। इसके लिए एक इलेक्ट्रानिक ऑनलाइन प्रणाली स्थापित की गई है, जिसमें दुनिया में कहीं से भी बैठकर नीलामी में भाग लिया जा सकता है।


सरकार ने सभी 22 सर्किलों में 3-जी स्पेक्ट्रम के लिए न्यूनतम बोली 3,500 करोड़ रुपये तय कर रखी है। बीडब्ल्यूए के लिए आरक्षित मूल्य 1,750 करोड़ रुपये प्रति सर्किलों तय किया गया है। बीडब्ल्यूए स्पेक्ट्रम के लिए कीमतें 3-जी नीलामी पूरी होने के दो दिन बाद आमंत्रित की जाएंगी।

यह ई-नीलामी संचालित कर रही फर्म एनएम राथ्सचाइल्ड इंडिया के प्रमुख संजय भंडारकर के अनुसार नीलामी की प्रक्रिया तभी रूकेगी जबकि सभी सर्किलों के लिए एक साथ उच्चतम बोलियां प्राप्त हो चुकी होंगी। नीलामी में सफल रही कंपनियों को सितंबर तक रेडियो फ्रीक्वैंसी सुलभ कराने का वायदा सरकार ने किया है। अनुमान है कि कंपनियां 2010 के आखिर तक या 2011 के शुरू में 3-जी सेवाएं दे सकेंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:3-जी मोबाइल सेवा के लिए रेडियो स्पेक्ट्रम की नीलामी