DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छोड़िए शिमला-नैनीताल, छोटे हिल स्टेशनों पर आइए

छोड़िए शिमला-नैनीताल, छोटे हिल स्टेशनों पर आइए

अगर आप भी दिल्ली की गर्मी और भीड़भाड़ से बच कर सुकून की तलाश में नैनीताल, मसूरी, मनाली और शिमला जा रहे हैं तो एक बार ठिठक कर सोचें। इन जगहों पर पर्यटकों की भीड़ और होटलों में कमरों की किल्लत आपकी परेशानी बढ़ा सकती है। ऐसे में आप इन पर्यटन स्थलों पर जाएं, लेकिन यहां ठहरे नहीं। आप इन हिल स्टेशनों से कुछ किमी की दूरी पर स्थित छोटे हिल स्टेशनों पर जाकर रूकें। प्रकृति के बीच, शांत वातावरण में स्थित इन जगहों पर जाकर आप सुकून और राहत महसूस करेंगे। साथ ही यहां ठहरने से जहां आपकी जेब पर भी  ज्यादा बोझ नहीं पड़ेगा, वहीं शहर के शोरगुल से दूर रह कर आप सही मायनों में छुट्टियों का आनंद ले सकेंगे।

मसूरी

1 धनौल्टी 

यह खूबसूरत जगह मसूरी से 30 किमी दूर है। शहर के भीड़भाड़ और शोरगुल से दूर धनौल्टी के घने जंगल आपको सुकून और शांति की अनुभूति कराएंगे। यहां चारों ओर देवदार और ओक के वन हैं। यह जगह उन लोगों के लिए है, जिन्हें प्रकृति से प्यार है। यहां आपको कोई मॉल या वीडियो गेम की दुकान नहीं मिलेगी। आप यहां पोनी राइड और ट्रैकिंग करते हुए फलों के बगीचे देख सकते हैं। धनौल्टी में आपको डीलक्स कैंप मिलेंगे, जहां आप एडवेंचर एक्टिविटीज का आनंद ले सकते हैं। ये कैंप प्रकृति के बीच में बनाए गए हैं। इस कैंपों में अटैच्ड टॉयलेट, 24 घंटे पानी और लाइट उपलब्ध है। यहां स्वादिष्ट भोजन की भी व्यवस्था होती है। यहां आप पहाड़ियों पर चढ़ाई का आनंद ले सकते हैं। म्युजिक, अंत्याक्षरी के अलावा क्रिकेट का लुत्फ उठा सकते हैं।

कैसे पहुंचें : मसूरी से आप धनौल्टी तक बस या फिर टैक्सी के जरिये पहुंच सकते हैं।

फायदा : धनौल्टी में फाइव स्टार होटल नहीं मिलेंगे, लेकिन आप यहां मसूरी की अपेक्षा हजार-दो हजार रुपए कम कीमत पर डीलक्स कैंप में रुक सकते हैं।

2 चंबा 

यह धनौल्टी से करीब 31 किमी और मसूरी से 67 किमी दूर स्थित है। यहां चारों ओर फल के बागान दिखाई पड़ेंगे। वन्य प्रेमियों के लिए यह जगह खास है। यहां आप आसानी से कई प्रजाति के पक्षियों को बिना किसी दूरबीन के देख सकते हैं। यहां से सूर्यास्त का नजारा अलग ही होता है। यहां पर्यटक मसूरी के कोलाहल और भीड़भाड़ से अलग कुछ दिन शांतिपूर्वक बिता सकते हैं। यहां देवदार और चीड़ के वृक्ष हर तरफ दिखाई देंगे। दिल्ली से भी आप सीधे चंबा 7 घंटे में पहुंच सकते हैं। यहां पर आपको कई रिजॉर्ट मिलेंगे, जहां आपको योगा, मेडिटेशन, आयुर्वेदिक मसाज, स्पा और स्विमिंग पूल की सुविधा भी मिलेगी।

कैसे पहुंचें : यहां आप दिल्ली से सीधे या फिर मसूरी से बस या टैक्सी से जा सकते हैं।

कहां ठहरें : यहां गढ़वाल मंडल विकास निगम का पर्यटक आवास है। इसके अलावा कई छोटे होटल और रिजॉर्ट्स भी हैं, जहां आप सस्ती दरों पर कमरा लेकर रह सकते हैं।

3 नाग टिब्बा चोटी 

यह चोटी मसूरी से 55 किमी दूर स्थित है। दस हजार फुट पर यहां आपको रिजॉर्ट भी मिलेगा। यह जगह ट्रैकिंग के लिए सालभर खुली रहती है।

मनाली

1 कुल्लू 

कुल्लू प्राकृतिक सुंदरता के साथ ही यहां से नजर आने वाले हिमालय के अनुपम दृश्यों के लिए भी जाना जाता है। कुल्लू मनाली से 40 किमी दूर है। यह इस ओर का रुख करने वाले पर्यटकों और ट्रेकर्स के बीच काफी लोकप्रिय जगह है। कुल्लू में ताबो मॉनेस्टरी, सुजानपुर किला, बिजली महादेव मंदिर देखने लायक जगह हैं। आप यहां हिमाचल की संस्कृति को करीब से जान सकते हैं।  

कैसे पहुंचें: मनाली से आप टैक्सी या बस के जरिए यहां पहुंच सकते हैं।

कहां ठहरें : कुल्लू में ठहरने के लिए कई होटल और रिजॉर्ट हैं, जहां आप अपने बजट के अनुसार रुक सकते हैं।

2 नग्गर

नग्गर मनाली से एक घंटे की ड्राइव पर स्थित एक खूबसूरत गांव है। यह प्राचीन कुल्लू की राजधानी भी था।  लोग यहां प्राचीन काल के अवशेषों को देखने के लिए आते हैं। मनाली और कुल्लू जाने पर नग्गर गांव जरूर आएं।

नैनीताल 

1 सतताल, भीमताल, नौकुचिया ताल

सतताल : नैनीताल से 23 किमी दूर सतताल स्थित है। ओक के जंगलों में सात झरने हैं, जिन्हें सतताल कहते हैं। यहां हर साल बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी आते हैं।

भीमताल : यह जगह नैनीताल से 22 किमी दूर है। इसके बीचोंबीच प्रसिद्ध भीमताल ङील है।
नौकुचिया ताल : यह भीमताल से 4 किमी और नैनीताल से 26 किमी दूर है। ङील में आप रोइंग, पैडलिंग का लुत्फ उठा सकते हैं।

2 रानीखेत

नैनीताल से 60 किमी दूर स्थित यह एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। यहां आप केला देवी का मंदिर, झूला देवी का मंदिर, चौबटिया गार्डन देख सकते हैं।

कहां ठहरे : रानीखेत में बजट होटल नैनीताल की अपेक्षा एक-दो हजार रुपए सस्ते पड़ेंगे।

कैसे पहुंचे : नजदीकी रेलवे स्टेशन काठगोदाम (82 किमी) है।

3 कौसानी 

कौसानी नैनीताल से 117 किमी दूर है। इसे भारत का स्विट्जरलैंड भी कहा जाता है। यहां स्थित अनासक्ति आश्रम में महात्मा गांधी 12 दिन ठहरे थे।

कहां ठहरें : ठहरने के लिए आपको कई रिजॉर्ट और होटल मिल जाएंगे। ये भी नैनीताल की अपेक्षा आपको 10 से 15 फीसदी सस्ते पड़ेंगे।

कैसे पहुंचें : यहां आप बस या टैक्सी के जरिए पहुंच सकते हैं।

4 अल्मोड़ा

अल्मोड़ा नैनीताल से 63 किमी दूर है।  यहां आप चिटाई मंदिर, कटरमाल, डियर पार्क, केसर देवी, नंदा देवी मंदिर, स्टेट म्युजियम देख सकते हैं।

कहां ठहरे : अल्मोड़ा में भी आप नैनीताल की अपेक्षा सस्ते दामों पर ठहर सकते हैं।

कैसे पहुंचें: यहां आप बस या टैक्सी के जरिए पहुंच सकते हैं।

दो सितारा होटलों में दो व्यक्तियों के लिए

जगह                         अनुमानित किराया (डीलक्स)
नैनीताल                     8000
रानीखेत                    5555
कौसानी                     5222
भीमताल                   6500
मसूरी                        5999
धनौल्टी                    4000
चंबा                           4400
मनाली                     6999
कुल्लू                         4500
चैल                         4999
शिमला                  6999
कुफरी                      4400

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छोड़िए शिमला-नैनीताल, छोटे हिल स्टेशनों पर आइए