DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संवेदनशील आंकड़ों की हैकिंग की खबरों पर सरकार गंभीर

संवेदनशील आंकड़ों की हैकिंग की खबरों पर सरकार गंभीर

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सचिवालय और अन्य प्रमुख मंत्रालयों के संवेदनशील दस्तावेजों की चीन के कुछ कंप्यूटर नेटवर्क द्वारा हैकिंग की खबरों को सरकार काफी सावधानी से देख रही है। जांचकर्ताओं की राय में सचिवालय के कंप्यूटर वायरसग्रस्त होने के कारण असुरक्षित हो गए और चीन के हैकरों की पहुंच संवदेनशील तथ्यों तक हो गयी।
    
गृह मंत्री पी चिदंबरम ने यहां कहा कि ऐसी खबरें हैं। हम काफी सावधानी से इसे देख रहे हैं। वर्ष 2008 में दलाई लामा के कंप्यूटरों की जांच करने वाली कनाडाई कंपनी सेकडेव ग्रुप के अनुसार एनआईसी के 12 कंप्यूटर चीन के हैकरों की गतिविधियों से प्रभावित हुए हैं।

जांच रिपोर्ट के अनुसार घोस्टनेट सिस्टम वायरसग्रस्त कंप्यूटरों को 'रैट' के नाम से प्रचलित ट्राजन को डाउनलोड करने का निर्देश देता है। इससे हमलावरों का कंप्यूटर पर पूर्ण नियंत्रण स्थापित हो जाता है। चीन के हैनान द्वीप में स्थित वाणिज्यिक इंटरनेट एकाउंट के जरिए 'रैट' पर लगातार नियंत्रण रखा जाता है।

सरकार के लिए रिपोर्ट चौंकाने वाली है क्योंकि इसमें कहा गया है कि अमेरिका और ब्रिटेन सहित नौ प्रमुख देशों में भारतीय मिशनों के कंप्यूटर चीन हैकरों से प्रभावित हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सचिवालय के कंप्यूटरों से दो गोपनीय दस्तावेजों सहित कम से कम 14 दस्तावेज चुरा लिए गए हैं। ये दस्तावेज असम, मणिपुर, नगालैंड और त्रिपुरा में भारत की सुरक्षा स्थिति पर केंद्रित हैं। इसके अलावा यह दस्तावेज नक्सली, माओवादी और वामपंथी उग्रवाद से भी जुड़े हुए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संवेदनशील आंकड़ों की हैकिंग की खबरों पर सरकार गंभीर