DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एजुकेशन लोन के रास्ते वकालत तक

लॉ सरीखे प्रफेशनल कोर्स के लिए देश व विदेश में पढ़ाई के लिए कई राष्ट्रीयकृत बैंक 10 से लेकर 20 लाख तक एजुकेशन लोन उपलब्ध कराते हैं। हालांकि फॉरेन एजुकेशन को लेकर कुछ शर्तें जरूर हैं। इलाहाबाद बैंक, आंध्रा बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, विजया बैंक प्रमुखता के साथ लोन देते हैं।

नौकरी के अवसर
इसमें प्रोफेशनल्स को सरकारी एवं प्राइवेट, दोनों ही सेक्टर में जॉब के अवसर मिलते हैं। प्राइवेट सेक्टर में जहां एडवोकेट, लीगल कंसल्टेंट, टीचर, राइटर, लीगल एजवाइजर आदि बनने का रास्ता खुलता है, वहीं सरकारी सेक्टर में सॉलीसिटर, लीगल कंसल्टेंट, (पार्टटाइम व फुलटाइम), लॉ ऑफीसर, असिस्टेंट एडवाइजर, डिप्टी लीगल एडवाइजर के रूप में अवसर सामने आते हैं। लॉ सर्विस कमीशन एवं स्टेट पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा पास करने के बाद मुंशफ एवं प्रमोशन के पश्चात उप न्यायाधीश, जिला एवं सत्र न्यायाधीश बना जा सकता है। एडवोकेट के रूप में हाइकोर्ट एवं सुप्रीम कोर्ट तक का रास्ता अख्तियार किया जा सकता है।

वेतन
इसमें प्रारम्भ में किसी भी प्रेक्टिशनर को 5 से 7 हजार रुपए प्रतिमाह मिलते हैं। एक-दो साल का अनुभव होने पर प्रोफेशनल्स को 10-12 हजार प्रतिमाह तक आसानी से मिल जाते हैं, जबकि प्राइवेट प्रेक्टिशनर्स को इस क्षेत्र में अच्छा पारिश्रमिक मिलता है। गवर्नमेंट सर्विस के अंतर्गत जब प्रोफेशनल्स सब जज के रूप में नियुक्त होते हैं तो 8-12 लाख रुपये प्रतिवर्ष का पैकेज लेते हैं।

सेलरी की सीमा काफी कुछ संस्थान, फर्म्स अथवा कंपनी पर निर्भर करती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एजुकेशन लोन के रास्ते वकालत तक