DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एजुकेशन लोन और योग से निरोग का रास्ता

योग से जुड़े कोर्स करने के लिए आमतौर पर बैंकों द्वारा लोन की सुविधा तो नहीं है, लेकिन योग से जुड़े कोचिंग सेंटर खोलने पर बैंक लोन की सुविधा मुहैया कराते हैं। वे सेंटर में आवश्यक संसाधन जुटाने के लिए लोन देते हैं। इसके लिए बैंकों की शर्तों के मुताबिक औपचारिकताएं पूरी करनी होंगी।

नौकरी के अवसर
स्कूलों में टीजीटी शिक्षक के रूप में। कॉलेजों में बतौर योगाचार्य काम किया जा सकता है। योग इंस्ट्रक्टर या प्रशिक्षक के तौर पर विभिन्न निजी कंपनियों, होटलों, अस्पतालों में भी अपनी सेवा दे सकते हैं। कोचिंग संस्थान खोल कर स्वरोजगार के रूप में योग क्लास लगा सकते हैं। कैवल्यधाम, लोनावाला के योगाचार्य भोगलजी के अनुसार इसे स्वरोजगार के रूप में अपना कर बेहतर ढंग से आजीविका कमाई जा सकती है। जगह-जगह योग शिविर चला कर अच्छी-खासी कमाई की जा सकती है।

वेतन
आमतौर पर वेतन की बात करें तो स्कूलों में टीजीटी स्केल यानी 25 से 30 हजार का वेतन शुरुआती तौर पर है। इसी तरह कॉलेजों में योगाचार्य के वेतनमान की शुरुआत 40 हजार रुपये से है। इसके अलावा स्वरोजगार के तौर पर आय प्रतिमाह 15 हजार से लेकर लाखों रुपये तक हो सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एजुकेशन लोन और योग से निरोग का रास्ता