DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीलंका में आम चुनाव, मतदाताओं में जोश

श्रीलंका में आम चुनाव, मतदाताओं में जोश

श्रीलंका में संसदीय चुनाव के लिए गुरुवार सुबह से मतदान शुरू हो गया। यहां दो महीने पहले राष्ट्रपति चुनाव हुए थे, जिसमें महिंदा राजपक्षे ने जीत दर्ज की थी।

देश में संसदीय चुनाव के लिए 11 हजार मतदान केंद्र बनाए गए हैं, जहां 14.08 करोड़ से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। 225 सीटों के लिए हो रहे चुनाव में 7,620 उम्मीदवार मैदान में हैं।

निर्वाचन आयुक्त दयानंदा दिसानायके ने कहा कि 26 जनवरी के राष्ट्रपति चुनाव की तुलना में संसदीय चुनाव में मतदाता कम जोश दिखा रहे हैं। राष्ट्रपति चुनाव में 75 फीसदी मतदान रिकॉर्ड किया गया था।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने निर्वाचन आयोग के हवाले से कहा कि चुनाव को लेकर मतदाताओं में अधिक उत्साह नहीं दिखाई दे रहा है। राष्ट्रपति और उनके परिजनों ने हैमबानटोटा जिले के मेदामुलाना इलाके में गुरुवार सुबह मतदान किया।

श्रीलंका में तमिल विद्रोही संगठन लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (लिट्टे) के खात्मे के बाद पहली बार संसदीय चुनाव हो रहे हैं। सैनिकों ने गत वर्ष मई में लिट्टे को पराजित किया था।

सत्तारूढ़ यूनाइटेड पीपुल्स फ्रीड़ा एलायंस (यूपीएफए) चुनाव में जीत दर्ज करने का दावा कर रही है। यूपीएफए ने देश के पूर्वी इलाके में पुनर्वास योजना के मद्देनजर जनता से समर्थन मांगा है। सोमवार को एक चुनावी रैली में राजपक्षे ने कहा था कि उनके पास श्रीलंका को एशिया में 'अजूबा' बनाने की योजना है।

राष्ट्रपति चुनाव में पराजित पूर्व सैन्य प्रमुख जनरल सरथ फोंसेका जेल से ही कोलंबो संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं। चुनाव मैदान में कुछ 36 राजनीतिक दल के उम्मीदवार उतरे हैं। चुनावी मैदान में मुख्य टक्कर सत्तारूढ़ यूपीएफए और मुख्य विपक्षी यूनाइटेड नेशनल पार्टी और नवगठित डेमोक्रेटिक नेशनल एलायंस के बीच है।

मतदान के दौरान सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए लगभग 80 हजार पुलिसकर्मियों और सेना के जवानों को तैनात किया गया है। मतदान के बाद नवगठित संसद का पहला सत्र 22 अप्रैल को प्रस्तावित है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:श्रीलंका में आम चुनाव, मतदाताओं में जोश