DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अनापशनाप खर्चे वाली संसद

ब्रिटेन की संसद भंग हो गई। कल प्रधानमंत्री गॉर्डन ब्राउन ने 6 मई को आम चुनाव कराने की घोषणा कर दी। इस संसद को इतिहास में खर्चा भत्ता घोटाले के लिए जाना जाएगा। जिस संसद में तकरीबन दो सौ सांसदों से अनापशनाप खर्च किए गए पैसे को लौटाने के लिए कहा जाए, उसे आप और क्या कहेंगे? एक संसद में दो सौ की संख्या अच्छी-खासी होती है। इस संसद ने अपने दो दर्जन मंत्रियों के करियर को बर्बाद होते देखा। कुछ सांसद तो अब भी मुकदमे और जेल की आशंका में जी रहे हैं। इसी महीने सब पार्टियों के मिला कर करीब 147 सांसदों ने कॉमन्स को छोड़ने की घोषणा कर दी। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। ब्रिटेन को अब नई संसद और सरकार चाहिए। इस संसद और सरकार से आजिज आ गए हैं लोग। गॉर्डन ब्राउन ने आखिरी दो साल में तो इस सरकार को बस किसी तरह ढोया है। अगर वह वापस आते हैं, तो उसमें कंजरवेटिव की भूमिका ज्यादा होगी और उनकी बेहद कम।
गाजिर्यन, लंदन

किसानों को सलाम
अपने किसानों ने कमाल किया है। इतने खराब मौसम के बावजूद उन्होंने चावल उगाने का रिकॉर्ड बनाया है। कृषि मंत्री रॉबर्ट प्रसाद ने खुशी जताते हुए बताया कि चावल में पिछले सारे रिकॉर्ड टूट गए हैं। साठ के दशक में गयाना चावल के मामले में खुशहाल था। चावल का इतना ज्यादा उत्पादन था कि उस वक्त की सरकार को मजाक में ‘राइस गवर्नमेंट और कुली सरकार’ कहा जाता था। चूंकि इन किसानों को एक खास पार्टी का माना जाता था। इसलिए जब दूसरी सरकार आई, तो उसने चावल किसानों की बेकद्री कर डाली। और चावल का हाल बुरा हो गया। इधर फिर से चावल का रंग जमा है। उसे किसी पार्टी से जोड़ कर नहीं देखना चाहिए।
गयाना क्रॉनिकल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अनापशनाप खर्चे वाली संसद