DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्मार्ट होम

विदेशों में स्मार्ट होम्स का चलन बढ़ चला है। स्मार्ट होम्स यानी ऐसे घर जहां अधिकांश चीजें तकनीक चालित होती हैं। बटन दबाने पर वहां कई काम एक साथ हो जाते हैं। पूरा घर एक स्मार्ट होम कंट्रोलर के इशारे पर चलता है। कंट्रोलर एक रिमोट की तरह काम करता है जिससे घर का तापमान आदि भी सेट हो जाता है। भविष्य में स्मार्ट होम्स की सफलता इस बात पर भी निर्भर करेगी कि वह कितने त्रुटिहीन तरीके से काम कर सकते हैं।

स्मार्ट होम्स किसी घर को सुचारू रूप से चलाने के लिए डिजाइन किए जाते हैं। इससे घर के लोगों के समय और पैसे की बचत होती है। एक अच्छे स्मार्ट होम में कई तरह की सुविधाओं का मिश्रण होता है जैसे बगीचे में जरूरत के हिसाब से पानी पहुंचाना या पानी गर्म करने के साधन का काम पूरा होते ही स्विच ऑफ हो जाना या फिर कमरे का तापमान परिवार के सदस्यों की जरूरत के हिसाब से स्थिर रखना।

अत: स्मार्ट होम्स मितव्ययी होते हैं। जिन घरों में बच्चे और बुजुर्ग होते हैं उनकी सुरक्षा के लिए स्मार्ट होम्स में चुस्त अलार्म सिस्टम होते हैं। यहां तक कि घर-परिवार के लोगों के घर में मौजूद न होने पर भी स्मार्ट होम अपने काम में लगा रहता है। यह घर केवल सुरक्षा ही नहीं बल्कि लग्जरी और आराम देने का भी काम करते हैं।

सुविधाओं की नजर से देखें तो इन घरों में रहने वालों को खिड़कियों के पर्दे खींचने के लिए या दरवाजे बंद करने के लिए अपने स्थान से उठना नहीं पड़ता, एक बटन दबाने भर से यह काम पूरे हो जाते हैं। कुछ लोगों को यह सुविधाएं पसंद आती हैं लेकिन कुछ का कहना है कि इनसे शारीरिक क्रिया में रुकावट आती है और लोगों में आरामतलबी की आदत बढ़ती है। लेकिन यह सुविधाएं उन लोगों के लिए अच्छी होती हैं जो शारीरिक तौर पर अक्षत होते हैं।

सुविधाओं के बावजूद, स्मार्ट होम्स का रख-रखाव महंगा और लगातार खर्च मांगता है क्योंकि यह घर तकनीक आधारित होते हैं और इनमें छोटे-छोटी मरम्मत की अक्सर जरूरत पड़ती रहती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्मार्ट होम