DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कार्बन उत्सर्जन में कमी से सृजित होंगे एक करोड़ रोजगार

जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों से निपटने के लिये कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने वाले उपायों से अक्षय उर्जा के क्षेत्र में देश में प्रत्यक्ष रूप से कम से कम 1.05 करोड़ रोजगार सृजित होंगे।

ग्लोबल क्लाइमेट नेटवर्क यानी जीसीएन द्वारा तैयार रिपोर्ट के अनुसार, भारत सरकार के नेशनल एक्शन प्लान आन क्लाइमेट चेंज यानी एनएपीसीसी के क्रियान्वयन से पवन, सौर और जैव ईंधन के जरिये बिजली उत्पादन में बढ़ोतरी से प्रत्यक्ष रूप से 1.05 करोड़ रोजगार का सृजन हो सकता है।

लो कार्बन जाब्स इन ए इंटरकनेक्टेड वर्ल्ड शीर्षक से प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि पवन उर्जा प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत महत्वपूर्ण देश है। इस क्षेत्र में भारतीय कंपनियां वैश्विक बाजार में 10 फीसदी हिस्सेदारी हासिल कर सकती है। इससे 288,500 रोजगार का सृजन होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कार्बन उत्सर्जन में कमी से सृजित होंगे एक करोड़ रोजगार