DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एमबीए में आधा दजर्न नए कोर्स

एमबीए कोर्स में दाखिला लेने वाले छात्रों में कोर्स और स्पेशलाइजेशन चुनने के ट्रेंड में बदलाव नजर आ रहा हैं। वहीं तकरीबन आधा दर्जन नए कोर्स आ गए हैं। ज्यादातर छात्रों में फाइनेंस चुनने को लेकर क्रेज था तो एचआर के प्रति छात्रों का रूझान कम दिख रहा हैं।

पागलगाय डॉट कॉम ने देशभर के 60 बी-स्कूलों को एक मंच मुहैया कराया, जहां छात्रों से संवाद स्थापित कर सकें। इसमें नारसी मुंजे, मुंबई, आईएमटी, दुबई, के.जी.सौमय्या, मुंबई, एनआईआईएल एम, दिल्ली ने भाग लिया।

नए कोर्स की मांग बढ़ी
पागलगाय डॉट कॉम के संपादक अपूर्व पंडित कहते हैं कि इस एडमिशन टूर में सबसे प्रमुख बात सामने आई कि एमबीए कोर्स की शक्ल सूरत बदल रही हैं। फाइनेंस में कॉलेज कई स्पेशलाइजेशन उपलब्ध करा रहे हैं जैसे कि फाइनेंशियल मार्केटिंग, कमोडिटी मार्केटिंग, माइक्रोफाइनेंस, मार्केटिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज आदि। ऑपरेशन मैनेजमेंट, लॉजिस्टिक और सप्लाई चेन जैसे कोर्स छात्रों की पसंद बन रहे हैं।

इनमें रूझान हुआ है कम
रिटेल और एचआर जैसे कोर्स छात्रों को ज्यादा लुभा नहीं पा रहे हैं। रिटेल कोर्स के बजाए लॉजिस्टक और सप्लाई चेन, ऑपरेशन मैनेजमेंट लोगों की पसंद बने हैं। जे.के. बिजनेस स्कूल की डायरेक्टर जनरल डा. रीना रामचंद्रन का कहना है कि एचआर कंपनियों को प्रशिक्षित और काबिल एचआर नहीं मिल रहे हैं।

आईटी की मंद गति
सदाबहार सेक्टर आईटी अभी तक पूरी रफ्तार नहीं पकड़ पा रहा हैं। पहले की तुलना में इस सेक्टर में नौकरी भी कम मिली हैं। एक जमाना हुआ करता था जब आधे बैच को आईटी कोर्स में दाखिला मिल जाया करता था, लेकिन अब छात्र इसे अपनी प्राथमिकता सूची में नहीं रख रहे हैं।

चीनी भाषा बनी है कोर्स का हिस्सा
डा. रामचंद्रन कहती हैं कि चूंकि भारत और चीन दो बाजार तेजी से बढ़े हैं इसलिए हमने चीनी भाषा का कोर्स शुरू किया हैं। साथ ही वेल्थ मैनेजमेंट, लॉजिस्टक और सप्लाई चेन जैसे कोर्स भी हमने नई प्रारंभ किए हैं। कैट परीक्षा परिणाम देर में आने से छात्रों के साथ कॉलेजों को भी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एमबीए में आधा दजर्न नए कोर्स