DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैठक को लेकर प्रिंसिपलों ने जताई नाराजगी

पंजाब यूनिवर्सिटी में मंगलवार को प्रिंसिपल्स कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। प्रिंसिपलों में नेतृत्व गुण के विकास की खातिर कॉलेज डवेलपमेंट काउंसिल ने अपने स्तर पर तैयारी तो की थी, साथ ही में लाइब्रेरी के डिजिटलाइजेशन की महत्ता के बारे में जानकारी देने के लिए भी एक लेक्चर रखा था।

इन सबके बीच प्रिंसिपल इस बैठक को लेकर गंभीर नहीं दिखे। लगभग 80 प्रिंसिपल मौके पर तो पहुंचे, लेकिन औपचारिकता निभाने के बाद वे मैथ्स ऑडिटोरियम के बाहर ही समय बिताते नजर आए। एक-दूसरे के साथ झुंड बनाकर प्रिंसिपलों को समय काटते देखा गया। कुछेक ने ही पंजाब के मुख्यमंत्री के सलाहकार (तकनीकी) बीएस धालीवाल का लेक्चर सुनने और उनसे नेतृत्व गुण जानने में दिलचस्पी दिखाई।

एक प्रिंसिपल ने तो कहा कि हमें समझ में नहीं आ रहा है कि हमें किस मकसद से बुलाया गया है। अभी कॉलेज में महत्वपूर्ण समय चल रहा है। कुछ दिनों पहले ही कुलपति की अध्यक्षता में बैठक की गई थी, उसमें भी हम आए थे। बार-बार इस तरह की बैठक बुलाने से बैठक की अहमियत घटती है और इसकी महत्ता कम होती है।

कार्यक्रम के दौरान कॉलेज डेवलपमेंट काउंसिल के एसोसिएट डीन प्रो. केशवल मलहोत्रा ने कहा कि पीयू पूरी तरह से पारदर्शिता लाने और कामों को सुचारू करने को प्रतिबद्ध है। उन्होंने कॉलेज प्रतिनिधियों से अपील की कि वे अपने स्तर पर परीक्षकों का डाटा बेस तैयार करें।

जिससे कि आगे से परीक्षकों का मेहनताना सीधे उनके बैंक खाते में जमा करा दिया जाए। उन्होंने प्रिंसिपलों से यह भी अपील की कि कॉलेज यूनिवर्सिटी को भुगतान का जरिया इंटरनेट या फिर आरटीजीएस मोड को बनाए। सीडीसी के डीन प्रो. एके भंडारी ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बैठक को लेकर प्रिंसिपलों ने जताई नाराजगी