DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर से होगी एमडी/एमएस परीक्षा

बीएचयू चिकित्सा विज्ञान संस्थान द्वारा 2010 सत्र के लिए आयोजित एमडी/एमएस प्रवेश परीक्षा को निरस्त कर दिया गया है। परीक्षा में गड़बड़ी की शिकायत के बाद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. डीपी सिंह द्वारा रेक्टर प्रो. बीडी सिंह की अध्यक्षता में एक समिति की गठन किया गया था। समिति की रिपोर्ट व विधिक राय पर विचार करने के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने परीक्षा को निरस्त कर पुन: आयोजित किए जाने का निर्णय लिया है।

विश्वविद्यालय की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार यह कदम परीक्षा की शुचिता व विश्वविद्यालय की साफ-सुथरी छवि को बरकरार रखने के लिए लिया गया है। संस्थान की ओर से फरवरी को हुई परीक्षा के कुछ अभ्यर्थियों ने शिकायत की थी की परिणाम जारी होने के लगभग 40 दिन बाद पुनरीक्षित किया गया। इसके चलते कुछ अभ्यर्थियों के पूर्व प्रकाशित परीक्षा परिणाम के आधार पर निर्धारित मेरिट क्रम में तब्दीली हो गई थी।

इस संदर्भ में कुलपति ने परीक्षाओं में इस प्रकार की गलतियों व घटनाओं को रोकने के लिए उचित उपाय सुझाने के लिए एक समिति का भी गठन किया है। गौरतलब है कि इंटर्नल अभ्यर्थियों के लिए आरक्षित 43 सीटों पर प्रवेश परीक्षा 10 फरवरी को हुई थी। इनमें से 22 सीटें सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए थी जबकि 12 व 9 सीटें क्रमश: ओबीसी और एससी/एसटी अभ्यर्थियों के लिए थी।

अपात्रों ने भी किया था ओबीसी कोटे में आवेदन

बीएचयू आईएमएस द्वारा निरस्त एमडी/एमएस परीक्षा में क्रीमि लेयर के तहत आने वाले कुछ छात्रों ने भी ओबीसी कोटे के तहत आवेदन किया था। सूत्रों के अनुसार क्रीमि लेयर के चार छात्र-छात्राओं ने ओबीसी कोटे के तहत आवेदन किया था तो एक छात्र ने केन्द्रीय सूची में शामिल न होने के बावजूद ओबीसी कोटे के तहत आवेदन किया था।

जिन चार छात्र-छात्राओं ने ओबीसी कोटे में आवेदन किया है उनमें से एक के पिता हरियाणा सरकार में क्लास वन अधिकारी के रूप में कार्यरत है तो एक छात्र के पिता राज्य सरकार के विश्वविद्यालय में प्रोफेसर है। एक छात्र के पिता रेडियोलाजिस्ट है तो एक अन्य छात्र के पिता पंजाब में एकाउंट्स आफिसर है। इस मामले में कुछ छात्रों ने लिखा पढ़ी भी की है लेकिन उनको उचित जवाब नहीं मिला।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिर से होगी एमडी/एमएस परीक्षा