DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिखों ने दी यूएई दूतावास पर प्रदर्शन की चेतावनी

संयुक्त अरब अमीरात यूएई में एक पाकिस्तानी की कथित हत्या के मामले में 17 भारतीय युवकों को फांसी की सजा सुना दी गई। जिससे के खिलाफ बुधवार से नई दिल्ली में अभियुक्तों के परिजनों ने भूख हड़ताल शुरु कर दी है। दस मौके पर केंद्रीय गुरूद्वारा प्रबंधक समिति एसजीपीसी के स्थानीय प्रधान सरदार शैलेन्द्र सिंह ने कहा कि अगर इस मामले में भारत सरकार ठोस कदम नहीं उठाती है तो झारखंड के सिख भी यूएई दूतावास के समक्ष प्रदर्शन करेंगे।
 
श्री सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार को इन 17 भारतीयों को बेहतर वकील उपलब्ध कराने की पहल करनी चाहिए ताकि वह अपना सही तरीके से बचाव कर सकें। ये सभी कामगार मजदूर लोग हैं। उन्हें वहां की अदालत की भाषा का भी सही ज्ञान नहीं है।  ग्यातव्य है कि इन 17 भारतीयों में से एक रविन्दर जमशेदपुर का है। हालांकि सभी मूल रूप से पंजाबी है।

 

गौरतलब है कि यूएई में शारजाह की एक शरिया अदालत ने गत 28 मार्च को यह सजा सुनाई थी। अभियोजन पक्ष का कहना है कि अल शाजा इलाके में अवैध शराब के व्यवसाय पर वर्चस्व को लेकर हुए झगड़े के चलते पिछले साल एक पाकिस्तानी की हत्या कर दी गई थी तथा तीन अन्य घायल हो गए थे। इस मामले में कुल 50 लोगों को आरोपी बनाया गया था पर 17 को ही सजा सुनाई गई शेष को सबूतों के अभाव में रिहा कर दिया गया था। आरोपियों के परिजनों ने आज से दिल्ली में जंतर मंतर पर भूख हड़ताल और प्रदर्शन शुरू किया है। उन्होंने सिख समुदाय की विदेश राज्य मंत्री परनीत कौर से भी इस मामले में मदद की अपील की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिखों ने दी यूएई दूतावास पर प्रदर्शन की चेतावनी