DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लॉ के छात्र बने ‘पप्पू’ या शिक्षक बने ‘वायरस’!

पंजाब यूनिवर्सिटी के लॉ विभाग में सोमवार को दिन भर डेट शीट में बदलाव की मांग पर हंगामा चलता रहा। विभागाध्यक्ष से कुलपति कार्यालय तक छात्रों की दौड़ जारी रही। पूसू, सोई, सोपू सभी पार्टी के नेता-कार्यकर्ता अपना-अपना जोर लगा रहे थे कि री-अपियर के पेपरों की तारीख बदल दी जाए। जब इस दिशा में बात की गई और मामले की जड़ में देखा गया तो पता चला कि पांचवे सेमेस्टर के लगभग 50 फीसदी छात्र एक पेपर में फेल हैं। लैंड लॉ के पेपर में कुल 238 छात्रों ने परीक्षा दी थी, जिसमें 109 की री-अपियर आई हुई है। इनके अलावा लेबर लॉ और ट्रांसफर ऑफ प्रॉपर्टी एक्ट जैसे विषय में भी छात्रों की री-अपियर है।

ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि एक पेपर आखिर इतनी बड़ी संख्या में छात्रों के फेल होने के पीछे राज क्या है। क्या फेल होने छात्र ही इस विषय में कमजोर हैं, उन्हें यह विषय कठिन लगता है या फिर विषय पढ़ाने वाले शिक्षक फिल्म ‘ऑल इज वेल’ के प्रिंसिपल ‘वॉयरस’ के फॉर्मुले पर चल रहे हैं।

इस बारे में दोनों तरह की बातें सामने आ रहे हैं। इतनी बड़ी संख्या में फेल होने वाले छात्रों की कोई यह पहली घटना नहीं है। पिछले वर्ष ही एलएलएम में कुल 27 छात्रों में से 5 ही पास हुए थे, बाकी कि री-अपियर आई थी।

दूसरी ओर छात्र खुलेआम कह रहे हैं कि शिक्षकों को उनके स्पेशलाइजेशन के अनुसार पढ़ाने को विषय ही नहीं दिए जा रहे हैं। जब क्लास में कॉन्सेप्ट ही क्लियर नहीं होगा तो फिर फेल ही होंगे। उन्होंने तो अपने स्तर पर कई सुझाव भी रख दिए हैं। छात्रों का कहना है कि इस दिशा में विभाग को गंभीरता से ध्यान देना चाहिए और शिक्षकों को उनके स्पेशलाइजेशन के आधार पर ही विषय एलॉट करने चाहिए जिससे न कि छात्रों के पप्पू बनने की नौबत आएगी और नही कोई शिक्षक वॉयरस की श्रेणी में गिना जाएगा।

री-अपियर की तारीख बदली
छात्रों के दबाव और उनकी मांगों पर विचार करते हुए पीयू प्रशासन ने री-अपियर परीक्षाओं की तिथि में बदलाव किया है। लैंड लॉ (5वें सेमेस्टर) की परीक्षा अब 14 मई को, लेबर लॉ (तीसरे सेमेस्टर) और ट्रांसफर ऑफ प्रॉपर्टी राइट (तीसरे सेमेस्टर) की परीक्षा क्रमश: 15 और 18 मई को री-अपियर की परीक्षा होगी। इसके साथ ही छात्रों को रीवैलुएशन की सलाह दी गई है। बता दें कि छात्रों की परीक्षा लगभग चार महीने पर घोषित किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लॉ के छात्र बने ‘पप्पू’ या शिक्षक बने ‘वायरस’!