DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरक्षण न दिए जाने के विरोध में प्रदर्शन

सेक्टर-38 स्थित गुरु हरकृष्ण मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल के बाहर 15 प्रतिशत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चों को दाखिला न दिए जाने के विरोध में प्रदर्शन किया। अगुवाई तृणमूल कांग्रेस चंडीगढ़ इकाई अध्यक्ष शम्भू बनर्जी कर रहे थे। उन्होंने बताया कि स्कूल प्रबंधकों को जमीन अलॉटमेंट के समय आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चों को दाखिला देने के बारे में कहा जाता है और वह वायदे भी करते हैं। लेकिन बाद में वह वायदे से मुकर जाते हैं। उन्होंने कहा कि निजी स्कूलों में सिर्फ अमीरों के बच्चों को ही पढ़ाया जाता है। जबकि गरीब के बच्चों के दाखिला तक नहीं दिया जाता। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा 1 अप्रैल को राइट टू एजूकेशन कानून लागू किया गया था। जिसमें आने वाले दिनों में सभी निजी स्कूलों में 25 प्रतिशत सीटें आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चों को दाखिला देने के लिए आरक्षित की गई है। लेकिन हमारे शिक्षा विभाग के उच्चधिकारी निजी स्कूलों के बीच सांठ-गांठ होने के कारण अभी तक निजी स्कूलों में 15 प्रतिशत कोटा लागू भी नहीं करवा पाए। उन्होंने कहा कि गरीबों को हक मांग कर लेना पड़ रहा है। जबकि निजी स्कूलों को यह हक अपने आप ही देना चाहिए। उन्होंने कहा कि टी.एम.सी. का वायदा है कि शहर में अनपढ़ता को दूर किया जाए और सभी को शिक्षा मिले। इसके लिए केंद्र सरकार भी भरपूर प्रयास कर रही है। इस मौके पर टी.एम.सी. के समर्थकों ने स्कूल परिसर के बाहर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ जम कर नारेबाजी की। इस मौके पर टी.एम.सी. के अजय सिंगला, बलबीर सिंह, अंशु शर्मा, जसबीर सिंह, रणजीत सिंह ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आरक्षण न दिए जाने के विरोध में प्रदर्शन