DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब रोबोट बनेगा माली

अब रोबोट बनेगा माली

वैज्ञानिकों ने एक ऐसा रोबोट तैयार किया है, जो पौधों को लाड़-प्यार से थपथपा कर उन्हें जल्दी बढ़ने व मजबूत बनने के लिए प्रेरित करेगा। मालियों का मानना था कि पौधों से बात करने व लाड़-प्यार से उन पर हाथ फेरने से वे जल्दी बढ़ते हैं। वैज्ञानिक शोधों ने भी इस बात की पुष्टि की है। अब ग्रीनविच यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने पौधों को लाड़-प्यार से थपथपाने के लिए एक रोबोट ही तैयार कर दिया है। इसे डॉ. ग्रीन नाम दिया गया है।

पेन्सिल्वेनिया युनिवर्सिटी के अध्ययन के अनुसार, पौधों को नीचे से ऊपर तक एक बार थपथपाने से वे जल्दी बढ़ते हैं और ज्यादा समय तक हरे-भरे रहते हैं। प्यार से थपथपाए गए पौधों की कीट प्रतिरोधी क्षमता भी बढ़ जाती है। दिन में एक बार थपथपाए गए पौधे 30 प्रतिशत ज्यादा मजबूत हो जाते हैं। डॉ. ग्रीन का डिजाइन तैयार करने वाले टोनी डोडसन के अनुसार, रोबोट कृत्रिम उर्वरकों पर निर्भरता कम कर सकता है। डॉ. ग्रीन पर बड़े पैमाने पर परीक्षण किए जा रहे हैं और यदि वे सफल रहे तो ‘ग्रीन हाउस’ के लिए रोबोट बनाए जाने लगेंगे। डॉ. ग्रीन में चार फुट का स्वीपर लगा है, जो पूरे दिन पौधों को थपथपाता रह सकता है। संरक्षित वातावरण में पौधे उच्च तापमान, कम रोशनी, हवा के कम प्रवाह और विभिन्न पोषक तत्त्वों के कारण कमजोर हो जाते हैं। स्पर्श अथवा वायु प्रवाह के कारण वातावरण में होने वाली उथल-पुथल के प्रति पौधे प्रतिरोधी क्षमता विकसित कर लेते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अब रोबोट बनेगा माली