DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिटलर चुराना चाहता था ईसा मसीह का कफन

वेटिकन ने दावा किया है कि ईसा मसीह के पवित्र कफन 'टयूरिन के कफन' पर हिटलर की निगाहें थीं और द्धितीय विश्व युद्ध के समय इस अवशेष को चोरी से बचाने के लिए वेटिकन को इसे एक बेनेडेक्टाइन एबे में गोपनीय तौर पर छिपाना पड़ा।

एबे के पुस्तकालय के निदेशक पादरी एंड्रे कार्डिन के मुताबिक, नाजी तानाशाह को उस कफन का जुनून था और इसी वजह से इसे 1939 में इटली के दक्षिण कंपानिया इलाके स्थित मांटेवर्जिन के बेनेडिक्ट सेंक्चुरी में छिपा दिया गया था। इसे 1946 में टयूरिन भेजा गया।

एक इटालवी मैग्जीन को दिए साक्षात्कार में फादर कार्डिन ने कहा कि वेटिकन और हाउस ऑफ सेवोय के आदेश पर पवित्र कफन को गुप्त तौर पर इस सेंक्चुरी में भेजा गया।

उन्होंने कहा कि आधिकारिक तौर पर ऐसा टयूरिन पर होने वाले संभावित हमलों से उसे बचाने के लिए किया गया था। हकीकत में इसे हिटलर से बचाने के लिए भेजा गया था जो इसे लेकर जुनूनी था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हिटलर चुराना चाहता था ईसा मसीह का कफन