DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्यार का भूखा है सीटू

प्यार का भूखा है सीटू

हैलो दोस्तो, मैं हूं अमीषा। दिल्ली के पहाड़गंज स्थित सेंट एंथनी सीनियर सेकेंडरी गल्र्स स्कूल में चौथी कक्षा में पढ़ती हूं। स्कूल के बाद मैं अपने डॉगी के साथ खूब मस्ती करती हूं। हम सभी प्यार से उसे स्वीटू बुलाते हैं। दिनभर वह मम्मी को खूब तंग करता है। दोपहर को जैसे ही भाई और मैं घर पहुंचते हैं, हमारे चारों ओर घूम-घूम कर हमें प्यार करने के लिए कहता है। जब तक उसे जी भर कर सहला न लूं, हमें चैन ही नहीं लेने देता। हम दोनों भाई-बहन खाना खाकर थोड़ी देर आराम करते हैं।

शाम होते ही वह हमें जगा देता है। दरअसल हमसे ज्यादा उसे बाहर खेलने जाने का मन करता है। वह कभी भाई तो कभी मेरे संग खेलने जाता है। बचपन में वह गेंद से बहुत डरता था, लेकिन अब तो वह इसका दीवाना हो चुका है और हमारे दोस्त उसके।

इसके पीछे एक बड़ी ही मजेदार कहानी है। एक बार हम सब सहेलियां पार्क में खेल कर लौट रही थीं। उस दिन हम देर तक खेलते रह गए थे, इसलिए कुछ अंधेरा हो गया था। लौटते वक्त हम सब बातें कर रहे थे। रास्ते में एक पागल कुत्ता मेरी एक सहेली को काटने के लिए बढ़ा। हमारा ध्यान उस ओर नहीं था, लेकिन तभी स्वीटू ने उसकी ओर छलांग लगा दी और उससे भिड़ गया। दोनों की जबदस्त लड़ाई चली।

हम सभी बेहद डर गए थे, लेकिन स्वीटू ने उस पागल कुत्ते को मार गिराया और जीत का झंडा लहराते हुए गर्व के साथ हमारे पास आकर खुशी से अपनी पूंछ हिलाने लगा। मैंने उसे प्यार से अपनी बांहों में भर लिया। लेकिन उस दिन उसे प्यार करने वाली मैं अकेली नहीं थी, मेरी सारी सहेलियां भी उस पर खूब प्यार लुटा रही थीं। फिर क्या घर, गली, मोहल्ला और स्कूल, हर जगह उसकी ही तारीफों के पुल बंध रहे थे। जहां देखो, उसकी ही बातें होतीं। तब से वह सबका चहेता बन गया। अब तो घर हो या बाहर, वह हमारा रक्षक बन गया है। अब मां को मुङो घर पर अकेले छोड़ कर जाने में बिल्कुल भी डर नहीं लगता। भाई को अपने दोस्तों के बीच रौब जमाना हो तो स्वीटू को साथ में ले जाता है। पापा भी कई बार सुबह-सवेरे आस-पड़ोस के अंकलजी लोगों के साथ मॉर्निंग वॉक के लिए जाते हैं तो स्वीटू साथ होता है। यहां तक कि मां भी कई बार उसे सब्जी लाने के बहाने घुमाने ले जाती हैं। खाने में भी वह कभी नखरे नहीं करता। जो भी घर में बन जाए, चुप से खा लेता है। उसे मां के हाथ का चिकन बेहद भाता है। हमारा स्वीटू सचमुच बहुत स्वीट है।

अगर तुम्हें भी है अपने किसी पशु-पक्षी से प्यार तो अपनी बात उसकी फोटो के साथ हमें इस पते पर भेज दो- धमाचौकड़ी, हिंदुस्तान, 18-20 कस्तूरबा गांधी मार्ग, नई दिल्ली-110001

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्यार का भूखा है सीटू