DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑस्टियोपोरोसिस

अस्थिरोग (ऑस्टियोपोरोसिस) में हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। यह ऐसी रोग-स्थिति होती है, जो धीरे-धीरे असर करती है और हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, उनमें आसानी से फ्रैक्चर हो जाता है। यह विशेषकर उन महिलाओं में होता है जब वे 30 वर्ष की आयु के बाद हड्डियां डेंसिटी खोने लगती हैं। हर 3 में से 1 महिला और हर 12 में से 1 पुरुष में इस रोग के होने की आशंका होती है।

एक्सरसाइज की भूमिका
एक्सरसाइज हड्डियों को विकसित करने और उन्हें स्वस्थ रखने में मदद करती है। यह ताकत और स्टेमिना बढ़ाती है और हड्डियों की डेंसिटी में वृद्धि करती है।

- मानव शरीर में 200 से ज्यादा हड्डियां होती हैं जो उसकी संरचना करती हैं। हड्डियों को जरूरत होती है कैल्शियम की, जो उनको संपुष्ट करने का स्रोत है। व्यायाम से हड्डियों की कैल्शियम खपाने की क्षमता बढ़ती है।

- दो तरह की एक्सरसाइज हड्डियों को मजबूती देती हैं, पहली वज़न उठाना दूसरी रेजिस्टेंस ट्रेनिंग एक्सरसाइज।

- कोई भी एक्सरसाइज जिसमें शरीर का वज़न पैर और टांगों पर पड़ता है, उसे वज़न उठाने वाली एक्सरसाइज कहा जाता है। उदाहरण के लिए वॉकिंग, जॉगिंग, सीढ़ियां चढ़ना, नाचना, टेनिस, गोल्फ और फुटबाल।

- रेजिस्टेंस ट्रेनिंग एक्सरसाइज वह होती है जिसमें हड्डियों और मसल्स की मजबूती बढ़ाने के लिए एक्सरसाइज की जाती है। उदाहरण के लिए मशीनों द्वारा वेट-ट्रेनिंग एक्सरसाइज, फ्री वेट्स या बॉडी वेट।

- आप अपने जीन, मेनोपॉज और हेरेडिटरी फैक्टर्स के बारे में कुछ नहीं कर सकते, लेकिन उनकी मजबूती के लिए अपने लाइफ स्टाइल में परिवर्तन ला सकते हैं। हेल्दी बॉडी वेट का लक्ष्य तय करें। प्रमाण बताते हैं कि यदि आप ज्यादा स्लिम हैं तो आप पर ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा मंडराता है। याद रखें कैफीन, एल्कोहल और स्मोकिंग से कैल्शियम की हानि होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑस्टियोपोरोसिस