DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिश्वत लेने पर चार साल की सजा

उत्तर प्रदेश में बरेली की विशेष अदालत ने महिला राजपत्रित अधिकारी रेनू जैन को रिश्वतखोरी का दोषी मानते हुए मंगलवार को चार साल की सजा सुनाई है।

सतर्कता विभाग ने उन्हें तीन वर्ष पहले रंगे हाथों पकडा़ था। बरेली विकास भवन में जिला कार्यक्रम अधिकारी रेनू जैन ने लखनऊ निवासी लवलेश श्रीवास्तव से उद्यमित विकास संस्थान द्वारा संचालित आठ बाल विकास परियोजना प्रशिक्षण के लिए पैसे की मांग की थी।

शिकायतकर्ता ने प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न करा दिए थे। सात लाख 83 हजार 840 रूपए भुगतान के लिए तीस प्रतिशत रिश्वत दी जानी थी।

लवलेश ने इसकी शिकायत सतर्कता विभाग से की और 31 मार्च 2007 को जिला कार्यक्रम अधिकारी रेनू जैन को रिश्वत लेते रंगे हाथ पकडा़ गया।

विशेष न्यायाधीश राजेन्द्र सिंह ने साक्ष्य सुनने के बाद चार वर्ष की कैद और 20 हजार रूपए जुर्माना की सजा दी। रेनू जैन इन दिनों बदायूं में तैनात हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रिश्वत लेने पर चार साल की सजा