DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न मोबाइल न लैपी, अब लीजिए आईपैड की झप्पी

न मोबाइल न लैपी, अब लीजिए आईपैड की झप्पी

एप्पल आई पैड यानी पढ़ने और ब्राउज करने का एक नया अंदाज। एक निजी मोबाइल कंपनी का विज्ञापन 'यूज मोबाइल, सेव पेपर' को अपना दर्शन बनाते हुए आईपैड ने 'यूज आईपैड सेव पेपर' कहा तो लांचिंग के दिन अमेरिका में 3 लाख आईपैड की बिक्री हुई जो बताती है कि लोगों ने एप्पल के इस आईपैड को 'व्हाट एन आइडिया सरजी' कह दिया है। जी हां इसी साल 27 जनवरी को घोषित और 3 अप्रैल को लांच होते ही आईपैड की बिक्री ने कई रिकार्ड बना दिए।

क्या है आईपैड: आईपैड स्मार्ट फोन और लैपटॉप के बीच की कड़ी है। आईफोन या आईपॉड से मिलता जुलता यह उत्पाद कुछ बदलावों के साथ आईफोन के ही ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलता है। इसकी 9.7 इंच (25 सेमी) की स्क्रीन शब्दों को पूरे आकार में आपके सामने लाती है ताकि आप आसानी से पढ़ और नेविगेट कर सकें। 16, 32 और 64 जीबी की फ्लैश मेमोरी, 256 एमबी डीडीआर-एस डी रैम और 1 गीगाहर्त्ज के शक्तिशाली एप्पल ए-4 प्रोसेसर से सुसज्जित आईपैड में ब्लूटूथ की भी सुविधा है। एप्पल ने आईपैड मॉडल 802.11एन वाईफाई लांच किया है और जल्द ही 802.11एन वाईफाई + 3जी लांच होगा। 3जी आईपैड में बेहद तेज तीसरी पीढ़ी की मोबाइल सुविधाओं से जुड़कर आप तेज गति से डाटा एक्सेस कर सकते हैं। इस सबके अलावा आपको रास्ता बताने के लिए इसमें जीपीएस की भी सुविधा है।

मोबाइल फोन और लैपटॉप की तरह इस्तेमाल किया जा सकने वाले इस आईपैड में 30 पिन डॉक कंट्रोलर भी है जिसकी मदद से आप अन्य एक्सेसरीज भी इससे जोड़ सकते हैं। इनबिल्ट कैमरा का न होना आपको निराश जरूर कर सकता है लेकिन लीथियम-पॉलिमर बैट्री का बेहतरीन बैकअप (10 घंटे का वीडियो, 140 घंटे तक संगीत और एक माह का स्टैंडबाई टाइम) आपके चेहरे पर रौनक लाने के लिए काफी है।

किससे है टक्कर: अमेजन किंडल वैसे तो सिर्फ एक ईबुक रीडर है, लेकिन नवम्बर 2007 से मार्किट में होने के कारण इसकी खासी पैठ है। अब तक किंडल, किंडल-2 और किंडल डीएक्स बाजार में आ चुके हैं। यह अखबार, मैग्जीन और किताबें पढ़ने के लिए बेहतरीन डिजिटल उत्पाद है। किंडल डीएक्स में 4 जीबी स्टोरेज कैपेसिटी है और इसी 9.7 इंच की स्क्रीन पर आप आसानी से पढ़ने का मजा उठा सकते हैं। एक अनुमान के अनुसार 2009 की चौथी तिमाही तक 15 लाख किंडल बिक चुके हैं। किंडल में आप एमपी3 का लुत्फ तो उठा सकते हैं लेकिन वीडियो की सुविधा इसमें नहीं है।

ब्लैकबेरी क्यों है चिंतित: ब्लैकबेरी की पहचान उसके स्मार्टफोन हैं और आईपैड ग्राहकों को स्मार्टफोन व लैपी के बीच की कड़ी का विकल्प दे रहा है। इसके अलावा ब्लैकबेरी के तीन हाईएंड मॉडल बोल्ड 9000, स्टॉर्म-2 और बोल्ड 9700 के ग्राहकों के लिए इन सभी के विकल्प आईपैड में उपलब्ध हैं। जहां एक ओर बोल्ड 9000 और 9700 में हाईस्पीड 3जी एचएसडीपीए है वहीं स्टॉर्म-2 के ग्राहक इसका फायदा नहीं उठा सकते। स्टॉर्म-2 आईपैड की तरह पूरी तरह से टच स्क्रीन है तो बोल्ड सीरीज में क्वैरटी की बोर्ड लगा हुआ है। ब्लैकबेरी अधिकतम 21 दिन का स्टैंडबाई टाइम और 6 घंटे का टॉकटाइम देता है तो आईपैड में 1 महीने का स्टैंडबाई टाइम है। एक ओर ब्लैकबेरी अधिकतम 2 जीबी की ऑनबोर्ड मैमोरी के साथ आता है और अधिकतम 2 जीबी तक मेमोरी बढ़ाई जा सकती है, वहीं आईपैड कम से कम 16 जीबी की मेमोरी में उपलब्ध है। एप्पल आईपैड वाईफाई-3जी के मुकाबले ब्लैकबेरी सिर्फ कैमरा के मामले में 20 साबित होता है, क्योंकि आईपैड में कैमरा नहीं है।

आईपैड में क्या है कमी
- कैमरा नहीं है
- इसकी चमदार स्क्रीन बेहद अच्छी लगती है, लेकिन अगर आप धूप में हैं तो आप पढ़ नहीं सकते।
- 1.5 पाउंड (680 ग्राम) वजन का आईपैड आपको थोड़ा भारी लग सकता है, क्योंकि अमेजन किंडल का वजन सिर्फ 10 आउंस (283 ग्राम) है।
- आपके प्यारे आईपैड पर सुरक्षा कारणों से फ्लैश वीडियो भी नहीं चलते।
- अगर आप एक साथ कई काम करना चाहते हैं तो आपको निराश होना पड़ेगा।
- यूएसबी स्लॉट नहीं है
- फिलहाल आप स्काईपी पर वीडियो चैट भी नहीं कर सकते।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:न मोबाइल न लैपी, अब लीजिए आईपैड की झप्पी