DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

करजई की टिप्पणी ने सोचने पर मजबूर किया: अमेरिका

करजई की टिप्पणी ने सोचने पर मजबूर किया: अमेरिका

अफगान राष्ट्रपति हामिद करजई की अमेरिका विरोधी टिप्पणी पर चिंता जताते हुए ओबामा प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि इसने सोचने के लिए मजबूर कर दिया है। व्हाइट हाउस ने भी करजई की ओर से अचानक आई इस तरह की टिप्पणी पर परेशानी का इजहार किया है।

सार्वजनिक मामलों के सहायक विदेश मंत्री पीजे क्राउले ने कहा कि करजई की टिप्पणी सोचने के लिए बाध्य करती है। लेकिन इसके अलावा भी पिछले सप्ताह आई उनकी कुछ टिप्पणियों ने हमें परेशान कर दिया है। हमें लगता है कि हमने उनका जवाब दे दिया है और अब हम आगे बढ़ रहे हैं।

क्राउले ने कहा कि हम चाहते हैं कि अफगानिस्तान की सरकार तेजी से कदम उठाये और प्रमुख क्षेत्रों में अपना दायित्व निभाये। इस तरह वह अपनी उस नेतृत्व क्षमता का प्रदर्शन करें जिसकी अफगान जनता उससे अपेक्षा करती है। हम वहां पर इसलिए हैं कि क्योंकि ऐसा करना हमारे राष्ट्रीय हित में है।

उन्होंने कहा अमेरिका सैन्य और नागरिक उद्देश्य के लिए अपने संसाधनों का पर्याप्त इस्तेमाल कर रहे हैं। लेकिन अमेरिका स्पष्ट रूप से चाहता है कि अफगान सरकार कदम उठाये तथा हम करजई सरकार के साथ काम कर रहे हैं और ऐसा होते देखना चाहते हैं।

क्राउले और व्हाइट हाउस की चिंता करजई की हाल की अमेरिका विरोधी टिप्पणियों को लेकर उठी है। पहले करजई ने विदेशी बलों पर आरोप लगाया था कि वह पिछले साल हुए राष्ट्रपति चुनाव में हुई धोखाधड़ी में शामिल रहे। इसके बाद उन्होंने धमकी दी थी कि यदि उनकी बात नहीं सुनी गई तो वह तालिबान के साथ मिल जाएंगे। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि पश्चिमी ताकतें अफगानिस्तान के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:करजई की टिप्पणी ने सोचने पर मजबूर किया: अमेरिका