DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

..तो एसईई के ‘जैमर’ नहीं तोड़ पाएँगे मुन्ना भाई

इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा में लगाए जा रहे ‘जैमर’ को तोड़ना मुन्ना भाइयों के लिए आसान नहीं होगा। राज्य प्रवेश परीक्षा (एसईई) में फर्जी परीक्षार्थियों को रोकने के लिए कई स्तर पर फोटो का मिलान किया जाएगा। इससे फर्जी परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल होने की हिमाकत नहीं करेंगे। किसी ने जरा भी चालाकी दिखाई तो तुरन्त पकड़ में आ जाएगा।

ज्यादातर प्रवेश परीक्षाओं में फर्जी परीक्षार्थी फोटो बदलकर ही परीक्षा देते हैं। पिछले वर्षों तक जो व्यवस्था थी उसमें फार्म भरते समय ही दो या तीन फोटो लगवाए जाते थे। उनमें से एक प्रवेश पत्र में लगाकर अभ्यर्थी के पास भेजा जाता था। बाकी फोटो रिकॉर्ड में रहते थे। इस व्यवस्था में फोटो बदलकर फर्जी परीक्षार्थियों के सेंध लगाने की आशंका ज्यादा रहती थी। इसी को रोकने के लिए प्राविधिक विवि ने इस बार नई व्यवस्था की है। फार्म भरते समय एक फोटो उसमें लगवाया गया है। मूल फोटो को रिकॉर्ड में रखा जाएगा। उसे स्कैन करके प्रवेश पत्र में उतारा जाएगा। स्कैन फोटो के साथ ही एक और फोटो लगाने की खाली जगह प्रवेश पत्र में होगी। प्रवेश पत्र में स्कैन फोटो के साथ ही एक नया फोटो अभ्यर्थी को चिपकाना होगा। इस तरह प्रवेश पत्र पर एक पुराना और एक नया फोटो चस्पा हो जाएगा। नया फोटो अपने अन्तिम स्कूल के प्रधानाचार्य या राजपत्रित अधिकारी से सत्यापित कराना होगा। एक नवीनतम फोटो साथ लेकर जाना होगा जो पहले प्रश्नपत्र की परीक्षा में ही जाकर कक्ष निरीक्षक को देना होगा। इस तरह छात्र के रिकॉर्ड में भी एक नवीनतम और एक पुराना फोटो होगा। इससे किसी भी स्तर पर की गई छेड़छाड़ तुरन्त पकड़ में आ जाएगी। इस बारे में प्राविधिक विवि के रजिट्रार यू. एस. तोमर का कहना है कि फर्जी परीक्षार्थियों को लेकर यूपीटीयू पहले से काफी सख्त है। फिर भी कभी-कभी प्रदेश भर में एक-दो जगह ऐसे मामले सामने आ जाते थे। नई व्यवस्था से फर्जी परीक्षार्थियों को रोकने में पूरी कामयाबी मिलने की उम्मीद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:..तो एसईई के ‘जैमर’ नहीं तोड़ पाएँगे मुन्ना भाई