DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चटवाल को पद्म-भूषण देने को चुनौती देने वाली याचिका खारिज

दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को अप्रवासी होटल व्यवसाई संत सिंह चटवाल को पद्म भूषण पुरस्कार दिये जाने के केंद्र सरकार के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका को खारिज कर दिया।

अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल पी पी मल्होत्रा द्वारा अदालत में वास्तविक दस्तावेज पेश किये जाने के बाद कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश मदन बी लोकुर की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने पाया कि चटवाल को दिये गये पद्म पुरस्कार में कोई अनियमितता नहीं बरती गई है।

उच्च न्यायालय ने 25 मार्च को याचिकाकर्ता एस के शाह से कहा था कि वह चयन समिति द्वारा चटवाल को यह प्रतिष्ठित पुरस्कार दिये जाने में बरती गई अनियमितता के बारे में सबूत पेश करे।

सरकार की ओर से अतिरिक्त सालिसिटर जनरल ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के निर्देश के अनुपालन में एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया जिसने पुरस्कार के लिए नामों का अंतिम रूप से चयन करने से पहले सभी लोगों की हर पहलू से समीक्षा की थी।

मल्होत्रा ने कहा कि आप इस तरह के बेबुनियाद आरोप नहीं लगा सकते हैं। इस संबंध में रिपोर्ट है जिसमें सभी पहलुओं पर गौर किया गया है।

इससे पहले याचिकाकर्ता शाह ने आरोप लगाया था कि चटवाल आर्थिक अपराध के बहुत से मामलों में संलिप्त पाए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चटवाल को पद्म-भूषण देने को चुनौती देने वाली याचिका खारिज