DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब कोई तानाशाह संविधान की अवहेलना नहीं कर सकेगाः जरदारी

अब कोई तानाशाह संविधान की अवहेलना नहीं कर सकेगाः जरदारी

अपने अधिकारों में कटौती किए जाने की प्रबल संभावना के बीच पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने रविवार को कहा कि संसद में पेश मसौदा संविधान सुधार पैकेज यह सुनिश्चित करेगा कि फिर से कोई तानाशाह संविधान को ठोकर नहीं मार सके।
 
जरदारी ने कहा कि सुधार पैकेज से पाकिस्तान के प्रांतों और लोगों के अधिकार भी सुनिश्चित होंगे जैसी दिवंगत प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो की अवधारणा थी। जरदारी सिंध प्रांत में एक स्वास्थ्य इकाई का उद्घाटन करने के बाद जनसभा में बोल रहे थे।

उन्हें एक दिन बाद ही सीनेट और नेशनल असेंबली के संयुक्त सत्र को संबोधित करना है। संसद में मंगलवार से 18वें संशोधन के नाम से मशहूर संविधान सुधार पैकेज पर चर्चा होनी होगी।

प्रस्तावित पैकेज में संसद को भंग करने, प्रधानमंत्री को बर्खास्त करने जैसे राष्ट्रपति के कई अधिकारों में कटौती किए जाने का प्रावधान है। सुधार पैकेज में उन बदलावों को हटाए जाने का भी प्रावधान है जो सैन्य शासकों द्वारा किए गए थे।

सत्तारूढ़ पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के प्रमुख जरदारी ने कहा कि हम बलिदान के भय के बिना अपने और आम लोगों के अधिकारों के लिए संघर्ष करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि कोई देश तभी ताकतवर होता है जब उसके लोगों और प्रांतों को उनके अधिकार दिए जाते हैं।

2007 में बेनजीर भुट्टो की हत्या का जिक्र करते हुए जरदारी ने कहा कि हम अपनी जान की कीमत पर पाकिस्तान तथा उसके लोगों की सेवा करते रहेंगे। हमने संगठित पाकिस्तान की मांग उस समय उठाई थी जब हमारे घर में एक का अंतिम संस्कार होने वाला था।

इस बीच पीपीपी की केंद्रीय कार्यकारी समिति ने सिंध प्रांत के नौडेरो में कल देर रात एक बैठक में जरदारी के नेतृत्व पर दोबारा भरोसा जताया। यह भरोसा ऐसे समय जताया गया है जब उच्चतम न्यायालय स्विट्जरलैंड में जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले दोबारा शुरू करने पर जोर दे रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अब कोई तानाशाह संविधान की अवहेलना नहीं कर सकेगाः जरदारी