DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदेश कांग्रेस समिति माओवादी खतरे पर करेंगी गौर

झारखंड में माओवादियों ने अपने खिलाफ कार्रवाई तेज होने को लेकर कथित तौर पर कांग्रेस से इस कदम के खिलाफ आवाज उठाने को कहा है। ऐसा नहीं किए जाने पर कार्रवाई का सामना करने की धमकी दी है, जबकि प्रदेश कांग्रेस समिति ने रविवार को इस धमकी पर गौर करने के लिए एक पांच सदस्यीय समिति का गठन किया।

झारखंड प्रदेश कांग्रेस समिति (जेपीसीसी) की एक विज्ञप्ति में कहा गया है, उग्रवादियों ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को धमकी दी है कि यदि वे माओवादी विरोधी अभियान का विरोध नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएंगी।

इसमें कहा गया है कि हाल ही में पलामू जिले में पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं ने माओवादियों के डर से इस्तीफा दे दिया हैं। यह भी कहा गया है कि उग्रवाद ने झारखंड में गंभीर रूप धारण कर लिया है, इस वजह से प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष प्रदीप कुमार बालमाचू को एक समिति गठित करनी पड़ी हैं।

इस समिति में पूर्व उप मुख्यमंत्री स्टीफन मरांडी, राज्यसभा सदस्य धीरज प्रसाद साहू, अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष गुलफाम मुजिबी और पूर्व विधायक राधाकृष्ण किशोर (संयोजक) तथा नील तिर्की शामिल हैं।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि समिति की रिपोर्ट मिलने के बाद प्रदेश कांग्रेस समिति अध्यक्ष के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और गहमंत्री पी चिदंबरम से मुलाकात करेगा और उन्हें झारखंड में माओवादियों की बढ़ती गतिविधियों से पैदा हो रही समस्याओं के बारे में अवगत कराएगा।

 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रदेश कांग्रेस समिति माओवादी खतरे पर करेंगी गौर