DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैग ने जताई गंगा के अस्तित्व पर खतरे की आशंका

कैग ने जताई गंगा के अस्तित्व पर खतरे की आशंका

उत्तराखण्ड में अलकनंदा व भागीरथी पर बनने वाली लगभग 53 बांध परियोजनाओं से गंगा का अस्तित्व ही समाप्त हो सकता है जिससे उत्तरप्रदेश व बिहार के इलाके अकाल की चपेट में आ सकते हैं। यह कोई भयावह कल्पना नहीं है बल्कि कैग की रिपोर्ट में यह आशंका व्यक्त की गई है।

कैंग की उत्तराखण्ड की जल विद्युत परियोजनाओं की समीक्षा रिपोर्ट में इस तरह की आशंका व्यक्त की गई है। कैग रिपोर्ट में यहां बनने वाली पन बिजली परियोजनाओं के परिणाम स्वरूप जगह जगह बनने वाली सुरंगों से पर्यावरण एवं परिस्थितकीय संतुलन बिगड़ने की भी आशंका व्यक्त की गई है।

कैग की रिपोर्ट में साफ उल्लेख है कि यदि भागीरथी व अलकनंदा पर जगह-जगह प्रस्तावित बांधों का निर्माण होता है तो इसका सीधा असर उत्तर प्रदेश और बिहार की खेती पर पड़ेगा।

रिपोर्ट में गंगोत्री से देवप्रयाग के बीच प्रस्तावित जल विद्युत परियोजनाओं से जगह-जगह बनने वाली सुरंगों का सीधा असर गंगा के अस्तित्व पर पड़ सकता है। गंगा की उपजाऊ सिल्ट वहीं रोक दिए जाने से यह खेतों तक नहीं पहुंच पाएगी नतीजतन उत्तर प्रदेश व बिहार की 40 प्रतिशत खेती बर्बाद हो जाएगी।

रिपोर्ट के अनुसार बिना गुणदोषों की समीक्षा किए अगर इस प्रस्तावित जल विद्युत परियोजनाओं को शुरू किया जाता है तो न गंगा बचेगी और न ही खेती। इसके परिणाम स्वरूप उत्तर प्रदेश में राक बेड, जल एवं खाद्यान्न संकट की स्थिति पैदा हो सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैग ने जताई गंगा के अस्तित्व पर खतरे की आशंका