DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिन भर छाएगा इवनिंग का मुद्दा

इवनिंग स्टडीज के कुल 246 छात्रों को रोल नंबर दिए जाने का मुद्दा पंजाब यूनिवर्सिटी के लिए नासूर बन गया है। इसे लेकर पीयू जहां नियमों के आधार पर घिरती दिख रही है, वहीं रविवार को होने वाली सीनेट की बैठक में विपक्षी गुट भी इसे बड़ा मुद्दा बनाकर पीयू प्रशासन को घेरने की तैयारी में जुटी है। सभी नियमों को ताक पर रखकर छात्रों को रोल नंबर दिए जाने के मसले पर सत्ता पक्ष के कुछ सदस्य भी आक्रोशित हैं और विभाग की कार्यविधि पर सवाल खड़े करने की ताक में हैं।

इवनिंग स्टडीज में छात्रों के अटेंडेंस औसतन 50 से 60 फीसदी तक ही पूरे हैं। ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि वर्ष भर विभाग ने इस मुद्दे को क्यों दबाए रखा। पीयू के नियमों के मुताबिक अगर छात्र लगातार एक सप्ताह तक कक्षा में नहीं आता तो नियमत: उसका नाम रजिस्टर से काटा जाता है और फिर उसे री-एडमिशन लेनी पड़ती है। लेकिन जिन छात्रों को अतिरिक्त लेक्चर दिए गए, उनमें किसी भी एक छात्र को वर्ष भर के अंदर एक चेतावनी नहीं दी गई। छात्र भी इस भ्रम में रहे कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी शिक्षक उन्हें जरूरी अटेंडेंस दे देंगे। सत्तापक्ष एक ओर जहां इस मुद्दे को हवा देने में जुटी हुई है, वहीं रोल नंबर जारी करने के लिए चुने गए ग्राउंड्स और नियमों का हवाला देकर विपक्ष उन्हें घेरने की कोशिश करेगा।

विपक्ष के अन्य मुद्दों में बॉस्टन पर बहस और स्पष्टीकरण की मांग, बीए-बीएड कोर्स के नाम पर पीयू प्रशासन द्वारा छात्रों को अंधेरे में रखने जैसे मुद्दे शामिल हैं। सूत्रों के अनुसार मोटी रकम वाले एजुकेशन डिपार्टमेंट में चल रहे बीए-बीएड कोर्स को एनसीईटी की ओर से खारिज किए जाने को लेकर भी पीयू को घेरने की तैयारी है।

निशाने पर रहेंगे कुलपति
मिली जानकारी के अनुसार इस बार निशाने पर कुलपति प्रो. आरसी सोबती सीधे होंगे। इसकी खातिर विपक्षी सीनेटर शनिवार को दिन भर रणनीति बनाने में व्यस्त रहे। उनकी कोशिश है कि जिस तरह से प्रिंसिपल्स कांफ्रेंस में कुलपति को अपनी कुर्सी छोड़ बाहर जाने की खातिर बाध्य कर दिया गया था, वही हालात इस बार भी पैदा किए जाएं। दूसरी ओर, कुलपति समर्थक खेमा भी अपनी तैयारी में जुटा है। पिछली सीनेट की बैठक में बिखरे विपक्ष में एकजुटता की लौ देखकर रात की डीनर पार्टी में कुलपति समर्थक खेमे में भी चर्चा हुई और तय किया गया कि विपक्ष को किसी भी मुद्दे पर हावी नहीं होने दिया जाएगा। विवादित मुद्दों पर बीच-बचाव या पीयू के पक्ष में बात करने की खातिर सीनेट के वरिष्ठ सदस्यों को साथ रखने की कोशिशें जारी हैं। पिछली सीनेट में जब कुलपति और पूटा अध्यक्ष के बीच काफी गर्मागर्मी हो गई थी तो प्रो. आरपी भांबा जैसे बुजुर्ग सदस्यों ने ही मामला संभाला था और सीनेट की कार्रवाई आगे बढ़ी थी।

सीनेट से पहले होगी मिनी सिंडिकेट
रविवार सुबह 9 बजे से शुरू होने वाली सीनेट की बैठक से कुछ अहम मुद्दों को पास करने और विचार करने की खातिर एक मिनी सिंडिकेट होगी। इसमें भी मुख्य तौर पर इवनिंग विभाग के पुनर्गठन के मुद्दे पर भी बहस होगी। इसके अलावा बेसिक कोर्सों की फीस में बढ़ोतरी को लागू किए जाने जैसे मुद्दे अहम होंगे। इसके साथ ही टीचर इवैलुएशन पर भी मिनी सिंडिकेट में चर्चा होगी।

टीचर इवैलुएशन पर घेरेंगे छात्र
एक ओर जहां शनिवार को दिन भर पीयू कैंपस में सीनेटरों की राजनीति चरम पर रही, वहीं छात्र संगठन भी सीनेट के पहले प्रदर्शन की तैयारी में है। आश्वासन के बावजूद अब तक टीचर इवैलुएशन नहीं किए जाने से खफा छात्र सीनेटरों के सामने धरना देंगे और अपना विरोध दर्ज कराएंगे।


इतिहास बनाने को तैयार अमित भाटिया

पीयू छात्रसंघ के अध्यक्ष अमित भाटिया उर्फ लोटा रविवार को एक नया इतिहास बनाने जा रहे हैं। पीयू छात्रसंघ के अध्यक्ष को सीनेट की कार्यवाही देखने का मौका दिया जा रहा है। उन्हें दर्शक दीर्घा में बैठने के लिए पीयू प्रशासन की ओर से आमंत्रण भेजा गया है। शिक्षकों के प्रतिनिधि पूटा अध्यक्ष, गैर-शिक्षकों के प्रतिनिधि पूसा अध्यक्ष की तर्ज पर ही सीनेट में छात्रसंघ अध्यक्ष को सदस्यता तो नहीं मिली, लेकिन उनकी दावेदारी को देखते हुए छात्रसंघ अध्यक्ष को दर्शक दीर्घा में बैठने की अनुमति होगी। अमित भाटिया के साथ ही लगभग दो-तीन दशक बाद सीनेट की दर्शक दीर्घा को भी खोला जा रहा है। कुछ अप्रियकर घटना के बाद गैलरी बंद कर दी गई थी। छात्रसंघ अध्यक्ष का कहना है कि आने वाले दिनों में वे दर्शक दीर्घा में छात्रसंघ सदस्यों की संख्या और बढ़ाने तथा सीनेट में सदस्यता के लिए और मुखर होंगे।

बता दें कि छात्रसंघ की सदस्यता की खातिर कुलपति प्रो. आरसी सोबती कुलाधिपति और देश के उपराष्ट्रपति डॉ. हामिद अंसारी के पास लिख चुके हैं। किसी भी सदस्य को नामित करने का अधिकार कुलाधिपति के पास ही होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिन भर छाएगा इवनिंग का मुद्दा