DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कायर हैं नक्सली, लड़ाई लंबी खिंचेगी: चिदंबरम

कायर हैं नक्सली, लड़ाई लंबी खिंचेगी: चिदंबरम

केंद्रीय गृहमंत्री पी चिदंबरम ने रविवार को पश्चिम बंगाल के पश्चिम मिदनापुर जिले के नक्सल प्रभावित लालगढ़ में कहा कि नक्सली कायर हैं, क्योंकि वे जंगलों में छिप गए हैं और उनके खिलाफ अभियान लंबे समय तक चलेगा।

केंद्रीय गृह मंत्री ने लालगढ़ का दौरा किया और ग्रामीणों से नक्सलियों का समर्थन न करने की अपील की। चिदंबरम ने संवाददाताओं से कहा, ''नक्सली कायर हैं। वे जंगलों में क्यों छिपे गए हैं? यदि वे वास्तव में विकास चाहते हैं तो वे बातचीत के लिए आगे आ सकते हैं।''

चिदंबरम ने कहा कि सरकार ने वार्ता के लिए केवल हिंसा छोड़ने की शर्त रखी है, जिससे हाल के वर्षो में सैकड़ों लोगों की मौत हुई है। लालगढ़ के तीन घंटे के दौरे के बाद चिदंबरम ने इलाके के लोगों से कहा कि वे नक्सलियों को भौतिक या नैतिक समर्थन न दें।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ और आंध्र प्रदेश में स्थिति में सुधार हो रहा है। उड़ीसा और झारखण्ड की हालत अभी भी चिंताजनक है।  चिदंबरम ने कहा, ''लेकिन यह लंबे समय तक चलने वाली लड़ाई है। इसमें दो या तीन वर्ष का समय लगेगा।'' उन्होंने कहा कि इस इलाके में सुरक्षा अभियानों के प्रति उनका मिश्रित दृष्टिकोण है।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा, ''मैं यहां से मिश्रित प्रतिक्रिया लेकर जा रहा हूं। कुछ अच्छी बात है तो कुछ बिंदुओं पर हम कमजोर भी हैं। अच्छी बात यह है कि केंद्रीय और राज्य सुरक्षा बल के जवानों ने कई लोगों को गिरफ्तार किया है। कमजोर पक्ष यह है कि नक्सली अभी भी लोगों की हत्याएं कर रहे हैं।''

चिदंबरम ने कहा कि सरकार पुलिस ज्यादतियों के खिलाफ जन समिति (पीसीएपीए) से 'पुलिस ज्यादतियों' पर चर्चा को तैयार है। इसके साथ ही नक्सलियों को सहायता देने के लिए पीसीएपीए की आलोचना करते हुए मंत्री ने कहा कि नक्सलियों के साथ जाकर पीसीएपीए ने गंभीर भूल की।

नक्सलियों की रणनीति के बारे में पूछे जाने पर चिदंबरम ने कहा, ''शायद वे फिर से संगठित हो रहे हैं। हमें सतर्क रहना होगा।'' नक्सलियों के खिलाफ जारी अभियान में सेना को शामिल किए जाने की संभावना से इनकार करते हुए उन्होंने कहा, ''सिर्फ केंद्रीय अर्ध सैनिक बल और राज्य सशस्त्र पुलिस बल तैनात किए जा रहे हैं।'' उन्होंने कहा कि इन्हें हटाया नहीं जाएगा।

चिदंबरम ने कहा कि वर्ष 2010 में नक्सलियों ने अब तक 65 नागरिकों की हत्या की है। सरकार का मानना है कि नक्सली देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए सबसे बड़े खतरे के रूप में उभर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कायर हैं नक्सली, लड़ाई लंबी खिंचेगी: चिदंबरम