DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेना की नजर सैनिकों को भारी एचएमजी गन दिलाने पर

सेना की नजर सैनिकों को भारी एचएमजी गन दिलाने पर

अपने सैनिकों की क्षमता बढ़ाने के लिए सेना की नजर उन्हें 12.7 एमएम हैवी मशीन गन (एचएमजी) दिलाने की ओर है। एचएमवी दो हजार मीटर तक की दूरी तक सटीकता से निशाना साध सकती है।

सेना ने इस बारे में एक सूचना जारी की है। इसमें कहा गया है कि सेना लाइट स्ट्राइक व्हीकल्स और इंफैट्री फाइटिंग व्हीकल्स चाहती है। हाल ही में जारी आरएफआई में कहा गया है हथियारों में लाइट स्ट्राइक व्हीकल और इंफैट्री फाइटिंग व्हीकल से उपयोग किए जाने की क्षमता होनी चाहिए।

इसके मुताबिक हथियार ऐसे होने चाहिए, जिन्हें तीन लोगों का चालक दल आसानी से ले कर चल सके। वहीं भूमि पर उपयोग किए जाने के दौरान इन्हें चलाने के लिए आसानी से तैयार किया जा सके। इसमें कहा गया है कि हथियार से गोली दागने की दर 450 राउंड प्रति मिनट से कम नहीं होनी चाहिए। एचएमजी को तीन तरीके से काम करने वाला होना चाहिए, सिंगल शूट, सेमी स्वचालित और पूरी तरह से स्वचालित।

आरएफआई में कहा गया है कि हथियार में दोनों तरह का नियंत्रण तंत्र होना चाहिए, व्यक्ति द्वारा संचालित और इलेक्ट्रिकली। सेना ने कहा है कि हथियार का जीवन लगभग 50,000 राउंड का होना चाहिए और इससे निकलने वाला धुंआ गोली दागने वाले सैनिक को प्रभावित नहीं करना चाहिए।

सेना की मांग है कि इन हथियारों में विस्फोट का प्रभाव कम करने वाला तंत्र भी होना चाहिए। सेना ने कहा है कि हथियार को ऐसा होना चाहिए, जो भारत के ऊंचे इलाकों, जंगलों और रेगिस्तानों में आसानी से काम कर सकें और इनकी मरम्मत आसान हो। सेना इसके पहले अमेरिकी, रूसी और इस्राइल निर्मित एचएमजी का उपयोग कर चुकी है, लेकिन अधिकतर सैनिकों ने इनका बंकर और वाहनों के खिलाफ ही उपयोग किया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सेना की नजर सैनिकों को भारी एचएमजी गन दिलाने पर