DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय कंपनियों का विलय अधिग्रहण सौदा 19 अरब डॉलर पहुंचा

भारतीय कंपनियों का विलय अधिग्रहण सौदा 19 अरब डॉलर पहुंचा

भारती एयरटेल द्वारा अफ्रीका की कंपनी जईन को 10.7 अरब डॉलर में खरीदने के बाद इस साल की पहली तिमाही के विलय एवं अधिग्रहण सौदे 19 अरब डॉलर पर पहुंच गए।

वित्तीय शोध कंपनी वीसीसी एज के मुताबिक इस साल के भारत के विलय एवं अधिग्रहण सौदे 19.20 अरब डॉलर पर पहुंच गए, जो पिछले साल की समान अवधि में 5.19 अरब डॉलर पर थे। आलोच्य तिमाही के देश में विलय एवं अधिग्रहण के कुल 4.06 अरब डॉलर मूल्य के कुल 80 सौदे हुए, जबकि पिछले साल की समान तिमाही में कुल 2.27 अरब डॉलर मूल्य के 38 सौदे हुए थे।

आलोच्य अवधि में घरेलू कंपनियों द्वारा विदेश में विलय एवं अधिग्रहण के कुल 51 सौदे हुए, जो पिछले साल की इसी अवधि में 24 सौदे थे। जबकि मूल्य के आधार पर भारती के सौदे की वजह ये यह पिछले साल की अपेक्षा सात गुना से अधिक हैं।

रपट में कहा गया है कि निवेशकों द्वारा लाभ कमाने की कोशिशों के कारण देश के विलय एवं अधिग्रहण सौदों में तेजी आई। विश्लेषकों के अनुसार दूरसंचार के क्षेत्र में 14.03 अरब डॉलर, ऊर्जा क्षेत्र में 1.17 अरब डॉलर और स्वास्थ्य के क्षेत्र में 9.61 करोड़ डॉलर के विलय एवं अधिग्रहण के सौदे हुए।

इस साल की पहली तिमाही के दो बड़े सौदों में 10.7 अरब डॉलर का भारती-जईन सौदा और जीटीएल इंफ्रास्ट्रक्चर द्वारा एयरसेल के टावरों को 1.8 अरब डॉलर में खरीदने का सौदा शामिल है। अन्य प्रमुख सौदों में फोर्टीज हेल्थकेयर-पार्कवे होल्डिंग्ज का 68.5 करोड़ डॉलर का सौदा, एस्सार समूह-ट्रिनिटी कोल कार्प का 60 करोड़ डॉलर का सौदा एवं टेलीनोर एएसए-यूनीटेक वायररलेस का 43.3 करोड़ डॉलर का सौदा शामिल है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारतीय कंपनियों का विलय अधिग्रहण सौदा 19 अरब डॉलर पहुंचा